भारत - भारती | Bharat Bharati

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Bharat Bharati by मैथिलीशरण गुप्त - Maithili Sharan Gupt

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

मैथिलीशरण गुप्त - Maithili Sharan Gupt के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
मारत-मारतो लखते न अघ की ओर थे वे झघ न लखता था उन्हें वे घर्म्म को रखते सदा थे धम्में रखता था उन्हें । ने कर्स्स से हो कर्में का. थे नाश करना जानते करते वही थे वे जिसे कतंन्य थे वे मानते ॥| २१॥। वे सजग रहते थे सदा दुख-पुरण तृष्णा-श्रान्ति से जोवन बिताते थे सदा सन्तोष-पुबेक शान्ति से । इस छोक में उस छोक से वे अब्प सुख पाते न थे हँसते हुए आते न थे रोते हुए जाते न थे ॥ २२॥ जिनकी अपूवे सुगन्धि से इन्द्रिय-मघुपगण थे हिले सद्धाव-सरजित वर जहाँ पर नित्य रहते थे खिछे । उहरें उठाने में जहाँ व्यवहददार-मारुत उम्म था उन्मत्त आत्मा-हंस उनके मानसों में मम था ॥ र३॥| वे इश-नियमों की कभी अवह्देठना करते न थे सन्मार्ग में चछते हुए वे विज्न से डरते न थे । अपने छिए वे दूसरों का हित कभी हरते न थे चिन्ता-प्रपूणे अशान्ति-पुवेक वे कभी मरते न थे ॥ २४ ॥ वे मोह-बन्घन-मुक्त थे स्वच्छन्द थे स्वाधीन थे सम्पुरण सुख-संयुक्त थे वे शान्ति-शिखरासीन थे । मन से वचन से कम्मे से वे प्रभु-मजन में छीन थे विस्व्यात न्रह्मानन्द-नद के वे मनोद्दर मीन थे ॥। २५ 1




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :