पाप और प्रकाश | Pap Aur Prakash

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Pap Aur Prakash by जैनेन्द्र कुमार - Jainendra Kumar
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 7.03 MB
कुल पृष्ठ : 125
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

जैनेन्द्र कुमार - Jainendra Kumar

जैनेन्द्र कुमार - Jainendra Kumar के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
पाप और प्रकाश थी तूलेलेगीतोतूलेले। नहीं तो बूढ़े घनपत की वह जग्गों है ही उसे दे दूंगी | सोना--दैया री कहीं उससे कुछ बात न निकले । मुझे डर लगता है । कुसलो --बात केसी मेरी भोली बहू १ तुम्हारा मरद तन्दुरुस्त और दिलदार होता तो बात दूसरी थी । पर झ्ब तो वह न सुर्दों में हे न जीतों सें | इस दुनिया मैं वह किस काम का है १ ऐसा तो श्रक्सर होता है । सोना--उद्द मेरा तो तिर घूम रहा है । डरती हूँ कि कहीं उसमें कुछ बुराइं न निकले । नहीं नहीं यह नहीं-- कुसलो--तेरी जैसी मरजी बहू मैं वापस कर दूंगी | सोना--तो यह पुड़िया भी पहली तरह दी जायगी--पानी मैं ? कुसलो--बोलता था कि चाय मैं दो तो श्रौर श्रच्छा । कहा कुछ पकड़ नहीं न निशान न गन्घ न कुछ । वह सिद्ध श्रादमी है । सोना-- पुढ़िया लेकर ऊ-ऊर-रे सिर फटा जा रहा है । जिन्दगी मेरी नरक न बन गई होती तो भला मैं ऐसा सोचती कुसलो--श्रौर कीमत एक रुपया है मला । रुपया जाके देना भी है । वह भी विचारा ददाथ का तंग है । सुना सोना--दाँ-अँ जाती है श्रौर पुढ़िया बक्‍्स के झन्द्र छिपा देती है कुसलो--श्रच्छा तो मेरी हीरा बहू बात यह श्रपने तक दबी रखना । भूठें कान किसी को खबर न दो । राम न करे जो कहीं कोई देख दीले तो कह देना कि चूहों के लिए दवाई है । दृश्य में रुपया सैँभालती है चूहों के काम भी आती हे यदद दवाई रुक जाती है रिस्रान्न झाता है और सामने किसन जी की सूरत टंगी देखकर हाथ जोड़ता है । तभी जोघराम आता है और बेठ जाता है । जोघराम--हाँ रिसाल चौधरी कहो कैसा कया हे रिसाल--जोघ दादा कया नाम बाजबी बात है बाजबी। पूछो क्यों ? श्य




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :