भारत - भारती अतीत खंड | Bharat Bharati Atit Khand

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Bharat Bharati Atit Khand by मैथिलीशरण गुप्त - Maithili Sharan Gupt
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 4.19 MB
कुल पृष्ठ : 180
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

मैथिलीशरण गुप्त - Maithili Sharan Gupt

मैथिलीशरण गुप्त - Maithili Sharan Gupt के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
अतीत खण्ड १५ ख्री ने कद्दा सर्योदय ही न होगा उसके पातिय्रत घर्म के प्रभाव से हुआ मी ऐसा ही | सूर्यय का उदय दोना रुक गया । इससे यढ़ी इलचल मच गई । अन्त में अनसूया देवी ने उसे समझा घुझाकर सय्यं का उदय करवाया । सूयोदय होते ही फषि का झाप फलीसूत हुआ बढ ब्रासण मर गया । किंन्द जनदया ने अपने प्रमाव से उसे पिर जिला दिया और उसे नीरोग भी कर दिया । ( ख) एक योगी चन में यूक्ष के नीचे येठा था । सदसा दो कौर्चो ने उसी दक्ष पर काँव काँव मचाकर उसे प्रुद्ध कर दिया । उर्यो हो उसने अपनी तीकष्ण दृष्टि ऊपर की ओर डाली स्यों दी वे दोनों पक्षी मरकर नीचे गिर पड़े । अपना ऐसा प्रमाव देखकर योगी को गर्व हुआ । एफ चार उसी योगी ने किसी गाँव में लाकर एक ग्दस्प के द्वार फ्र भिक्षा के लिए आवाज दी । भीतर से ख्री-कंढ से उत्तर मिला जरा देर ठदरो योगी ने कद्दा--हैं यद अमा गिनी स्री मुझे ठ्दरने को कदती है मेरे योग्य फो नहीं जानती अभी चह्द यद सोच ही रद था कि अन्दर से फिर जावान आाई-- येटे बहुत फ्रोघ मत कर यहाँ फीए महीं रदते । अजय तो योगी फके आधे का ठिकाना न रद्द । ररी फे याएर आने पर वह उसके पेरों पर गिर पढ़ा और एूएने लगा कि मां तूने यए सब कैसे जाना हरी ने फददा - मैं एफ साधारण सी हूँ किन्द॒ मैंने इमेशा अपने धर्म का पालन किया है | अमी जय मैंने वर्ग ठदरने को फद्दा था तय मैं अपने रुग्ण पति की सेवा में लगी हुई थी । पतिऐया ही सेस धर्म है । सपने धर्म्म फा पालन करने से मेरा टृदय इतना निर्मछ होगया है दि उसमें सब बातें प्रतिदिश्यित हो जाती हैं । यदि नुग्द्ें इससे लिया सन फी इच्छा ऐ तो अमुर व्याप के पास डाओ 1 उस ररी के उपदेशानुरार यए योगी उस स्याप के पास गया बर ब्याष ने उसे सनेक सारग्मित उपदेश दिये । द््टी उपदेश स्‍्यापगीता के माम से प्रॉटद् हैं ।




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :