गीता प्रवचन भाग 2 | Geeta Parvachan Vol-ii

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Geeta Parvachan Vol-ii by विनोवा - Vinobaहरिभाऊ उपाध्याय - Haribhau Upadhyaya
लेखक : ,
पुस्तक का साइज़ : 11.24 MB
कुल पृष्ठ : 248
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

विनोवा - Vinoba

विनोवा - Vinoba के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

हरिभाऊ उपाध्याय - Haribhau Upadhyaya

हरिभाऊ उपाध्याय - Haribhau Upadhyaya के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
प्रास्ताविक मारयाधिका भर्जुनका विषाद श्५ कौन कठिन बात है ? सन्यासकों आसान वतानेवाला स्मृति-वचन तो है ही । परन्तु मुख्य वात वृत्तिकी है । जिसकी जो सच्ची वृत्ति होगी उसीके अनुसार उसका धमं होगा । श्रेप्-कनिप् सरल-कठिनका यह प्रश्न नही है। विकास सच्चा होना चाहिए । परिणति सच्ची होनी चाहिए । १४ परन्तु कुछ भावुक व्यक्ति पुछते है-- यदि युद्ध-धमंसे सन्यास सचमुच ही सदा श्रेष्ठ है तो फिर भगवानुने अर्जुनकों सच्चा सन्यासी ही क्यो न बनाया ? उनके लिए क्या यह असम्भव था ? उनके लिए असभव तो कुछ भी नही था । परन्तु उसमे अर्जुनका फिर पुरुपाथ॑ क्या रह जाता परमेश्वरने स्वतन्त्रता दे रखी है । अत हर आदमी अपने छिए प्रयत्न करता रहे इसीमे मजा हैं । छोटे वच्चोको स्वय चित्र बनानेमे आनन्द आता है। उन्हें यह पसन्द नहीं आता कि कोई उनसे हाथ पकड़कर चित्र वनवाये। दिक्षक यदि वच्चोके सवाल झट हुल कर दिया करे तो फिर बच्चोकी वृद्धि बढ़ेगी कैसे ? मत मां-बाप भर गुरुका काम सिर्फ सुझाव देना है। परमेश्वर अन्दरसे हमें सुझाता रहता है । इसमे अधिक वह कुछ नहीं करता । कुम्हारकी तरह भग- वाचु ठोक-पीटकर अथवा थपथपाकर हरएकका मटका तैयार करे तो उसमें खूवी ही कया ? हम मिट्टीकी हूँडिया तो है नहीं हम तो चिन्मय है । १५ इस सारे विवेचनसे एक वात आपका समझसे आ गयी होगी कि गीताका जन्म स्वधमंग्रे वाधक जो मोह है उसके निवारणाय॑ हुआ हे । अर्जुन धर्म-समूढ हो गया था । स्वधमके विपयमे उसके मनमे मोह पैदा हो गया था । श्रीकृष्णके पहले उलहनेके वाद यह वात अर्जुन खुद ही स्वीकार करता है । वह मोह वह ममत्व वह आसक्ति टूर करना गीताका मुख्य काम है। इसी- लिए सारी गीता सुना चुकनेके वाद भगवानुने पुछा है-- अर्जुंन तुम्हारा मोह गया न ? और अर्जुन जवाब देता है-- हाँ भगवनु मोह नष्ट हो गया मुझे स्वधर्मका भान हो गया । इस तरह यदि गीताके उपक्रम और उपसहारकों मिलाकर देखे तो मोह-निरसन ही उसका तात्पर्य निकलता है । गीता ही नही सारे महाभारतका यही उद्देव्य है । व्यासजीने महाभारतके प्रारभमे ही कहा हैं कि लोकहृदयके मोहावरणको दूर करनेके लिए मैं यह इतिहास-प्रदीप जला रहा हूँ ४. ऋजु-बुद्धिका अधिकारों १६ आंगेकी सारी गीता समझनेके लिए अ्जुनकी यह भूमिका हमारे बहुत काम आयी है इसलिए तो हम इसका आभार मानेगे ही परन्तु इसका और ्ड




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :