कथा | Katha

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Katha by रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravendranath Thakur
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 3.11 MB
कुल पृष्ठ : 136
श्रेणी :
Edit Categories.


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravendranath Thakur

रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravendranath Thakur के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
कथा कभऔओ कथा कओ अनादि अतीत अनन्त राते केन बसे चेये रओ । कथा कआओ कथा कओ | युग युत्तान्त ढाले तार कथा तोमार सागरतले कत जीवनेर कत धारा एसे मिशाय तोमार जले । सेथा एसे तार स्रोत नाहि आर कलकलभाष नीरव ताह्ार -- तरंगहीन भीषण मौन तुमि तारे कोथा लओ ॥ हे अतीत । तुमि हृदये आमार कथा कआओ कथा कओ | कथा कझआओ कथा कओ | स्तब्घ अतीत हे गोपनचारी | अचेतन तुमि नआो-- कथा केन नाहि कओ ।




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :