तत्वनिर्णयप्रसाद | Tatvanirnayaprasad Stambha-36

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Tatvanirnayaprasad Stambha-36 by आत्माराम जी महाराज - Aatmaram Ji Maharaj

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

आत्माराम जी महाराज - Aatmaram Ji Maharaj के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
हिहू, गम, मोकि ममाण इनमें इेसु >० १ रणाषके प्रमाण होनेमें हतु हरभगषते सस्पोपदेशका खंदन करनेकी परबादीकी अश्चक्यता १८ य का ते इुये मी अन्यप्रताबर्नरी विसकी उपेक्षा फ्य। करत ह उसका 8५ तप और योगमम्यास्तादिसें माक्तमाप्ती बायेगी तो लिनेंद्रका माग अंगीकार 35१3 ५ मावश्यक्ता) तिसका उचर ९९ परबवादियोंका भगवदरे मार्गके किंचिप्राप्न भी फोप या आक्रोश नहीं कर सकते हैं 1 परबादियोंफे मतरमें ले उपद्रव हुऐ हैं वे मगयानके श्लासममें नहीं हुवे. ?*! परबावीयोंके अधिप्राताफी परस्पर पिरुद्ध पर्व... « १०1 अयोग दस्तुयोंफा पुन' प्यवष्फेद पा भगयानऊे उपदेश्की बशघरी अन्यमत नहीं कर सकता. «« १०८ परतीयमार्योन निनेंद्रकी मुद्रामी महीं सीसी .._.... १०९ भरित, शिब, विष्णु और ब्रह्लाकी मूर्ति ११४ भगबंतऊे शासनकी स्तुति & श्र! स्तुतिकारने दो वस्तुर्ये म्ननुपम करी हैं 7११! अन्ञानियों क। प्रधि बोष करनेकी स्वुविकारकी मसमथेता ११३ मगबानऊकी देक्षना भरूमिकी स्स॒ुवि . .. .. ११३ पर वेमोंछा साप्राज्य हथा सिद्ध किया है .. १११ असतूवावी और पंदित न्नोंके भर मत्सरी जमके कृक्षणका बर्णन... ११४ परवादीयों समक्ष अषधघोपणा अपना पक्षपादरहितपणा रू १९६भगर्मतकी पघागीकी छूटी... «« ११६पक्षपादरहित शोकर गुणविश्वेष्ट मगबंतकों समुश्षप नमस्कार स्पुविकास्परूप और समाप्ति .. 9... ११७माझापनोध करनेका संबत्‌(४) चतुथे स्स॑म-भी इरिमद्रसूरिबिरित लोझतत्र निणयक्ा स्परूप ३११८-१४ मगरूझा रका मंगलासरण हर ११८पर्षदाकी परीक्षा/हा उपंदक्ष उपंदक्षके अयोग्य पपेद्क रुक्षण ११९ अयोर है । >> म्ल्फिपसह बा ३१८जराण्लैजटा काधकुकदक हु का कक बे




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :