रघुवंश भाषा | Raghuvansh Bhasha

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : रघुवंश भाषा - Raghuvansh Bhasha

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about लाला सीताराम - Lala Sitaram

Add Infomation AboutLala Sitaram

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
प् ... रघुबंधमाषा निरखि तासु पाचन बदन सयुन सुखद अजुमानि | सफल मनेारथ जाचकदि कहो यागिवर बानि ॥ ''जिय जानडु नृपकाज सब ह्व हैं सिद्ध तुम्हार । नाम लेत पहुँची लखड्ड यदद मड्लझागार ॥ कन्द मूल फल खाय अब रहि याके नित साथ । विद्या सम अभ्यास करि यहिं मनाउ नरनाथ ॥ या बैठत बैठे घरनि चलत चलो संग लागि । खड़े ठाढ़ रहि, जल पियत पियडु नोर अनजुराणि ॥ प्रात समय बन खोर लीं नित याके संग जाहि । मिले सक्ति सन नित बघू साँक समय मग माँहि ॥ करि सेवा यहि तोषि नप लडिहै। सुत बरदान । नस बिघ्च तब पितन मह दोइय भूप प्रधान ॥ चतुर शिष्य ज्ञानत सकल देश काल को नोति | खिर घरि युरूअज्ञा लई रानी सहित सप्रोति ॥ अवधघनपह़िं बिधितनय मुनि समुसावत यहि भाँति । ही सेवन को आज्ञा दई गई कछुक जंब राति ॥ कि रहो यद्पि तप सिद्धि सन सब समरथ सुनिराय । ' तऊँ जानि व्रत एक कुटी भरूपदि दोन्द बताय ॥ सखुनि ऋषीश के बेन पणुकुटी मद जाइ नप । कोन्ड दभ पर सेन पतिबरता रानी सहित ॥ मभण प्रात नरनाह गुरू शिष्यन कर पाठ खुनि । उठे समेत उछाइ दिवस काज निज्ञ हिये युनि ॥




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now