मिताक्षरा सटीक | Mitakshara Satik

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Mitakshara Satik Vyavharkand Ka Mulsahit Bhasha Anuvad by दुर्गाप्रसाद - Durgaprasad

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about दुर्गाप्रसाद - Durgaprasad

Add Infomation AboutDurgaprasad

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
; 1. प , शदेप्मरदायभागसमा पिपररणमर्‌ ॥)1 | ४२] ३ | सोमा.निर्षायक विहुत, प्रदर्धन परिच्े १३६ | २८ | ९४ |.सौमा ,चि६हुनभावें गिषयोपाय परिष्केद: १७ | ९.७ ७ | सोमज्ार्जावहुनयोरभाधेनिशधप्रकार४रिचछेद: १४४ १९ | ६९ इदादि शोमास्थापपशविग्रेरतिदेश पस्प्डिंद धर 'शर्तेतीषाक्रादपरएणमु! ' .४६ | १४ (६४ | पयुध्यतिफ्रमे श्वामिपात्तद इशिप परिच्ेदः 1६३ | १४ | ६५ | दथुनटेगेस्व| मिपपरलमियाद परिष्केद: - - , | “- इतिपशुम्पाक्तकमबादपुरुरणम १६६ | २१,६९८ | अस्व्धसाइफ यियादें एरिप्क: न है ही हल इत्पस्थामिविक्रपप्रररणम्‌ , १८० | २९ | ४० | दानविवादें देयादेंयादिलकषएमेद परिच्छ३ : इदिदानाबैबादफूकरंणमर्‌ , /- ५ ११४ | १ | ० | फ्रीवाजुयण विधादत,मक परिछेद: * इंटिक्रातानशयस्पत दा रपर रणरू ६०२ | १६ | «२ | सेबाधर्म शिवादे अभ्यये यायपू वा परिच्छ दा 1 - . नूतिप्लेबोप्रमादवादंपंऋरणणणु . . “(३० | १४ | ५३ | छंघिटूय तिकमनाम ण्ाद्‌ परिच्छे + ।.।_ इविप्तोविद्यपतिक्रपाज्यप्रकरणम ६३३ | २८ | ५४ | बेतमादानणियांदे परिच्छेद३ -, « | दड4 51४25 56लव ० स कब ब्लड कक /मिताक्षरा सं? के परिच्छेद्ों का सचीपत्रा . ;! / पररिष्देंदाबानामानि .] लुत्तणत 5 सभानिदुपशम्‌ # का ब्रर श्र ३ प्र ११ श्ण हद ब् हि १९३ | रूथ्या नो दुमः ४ ५ श्र १( | व्यपह्ार विषयों ड्वितोय: परिच्छेद: (२) ० | २५ १३ | व्याक्ार स्थ्ट्प् ९ «५, 5 रा र २१ | व्यपरहारश् द्वे विध्यत *+« झ्३ | १३ १३ | व्यश्द्रस्य अष्टादय भेद: पु श्ड | ६६ रब | व्यवहार: प्यधप्रेद सडानफ्रेदादनीए, - ३३ | ३३२ ३१ | रकेंत बाहिना या बहुमिव्य बद्प: - 2 सह रे १३ | आइबरानविधश्सृतींयपरिच्छेरः ( ३) श्३ | श्‌ ३६ | फा्यो्धितिप्र लप्रशएः ् शत $ “| शर्धिलबादुपानाआए ५ * | दातहमाइदए पियाद परिच्छेद:. ५ इंतशूतसमाइन्यप्रररणम « वाइप+पष्यांयबादे परस्स्क्रंद: * इतिदाझपारुच्यविवादएररणप्र इंडपारुष्यनारफषियाद परिच्कद: ,' *, शततदर इृपारुप्पा ४दा द एक रण ए्‌ साइसवामबितर प्रिच्छेद: '-(' डपहाइसइपफप माँयां परिच्केद: ४. ४ ४1६ इतिसराइमोपसाहत्तयो।एकरणरश विक्लोयासंप्रदारजियाप्दे परिच्देद: इतिविकी यासंप्रद नपकर णेम_ «! | पझंभूयसमुत्योनफ्मशिधियाद परिच्छेदः >- * 'हतिसंमूषसमृत्पानप्करणम्‌ | « * पर |, घोणविज्वादें स्वेग्नामंक परिस्केद 1 : | 5+, “इठिचापब्दादएररणम ५३ | परस्वोसंग्रहए्रपयशिशाद परिस्छ4: “' , झवेपरसीसंग्रहणपरूरूरणमू 5३.) मपाश्र्य पिशिश्व्यत्रद्राराण परिषद! . इतिप्रकणेसक्ररानवादिपकरणंध्‌ हे * हि धपापत्पाध्ुक्रमगिकाप्तमा्ना अनाइपानयोग्या: अ्रनाहुघान गाग्या: असेध प्रकायर: ( पेरवा-+परहुना ), अनाझेध्या: भावा पादनामक प्रत्यधिन्यागले सेख्यादि करव्यता डीनपदीलइर्ध --शदप॑ रविध: अर्धिम/मा लेह्यतरुण ( इज़दर मुदुई ) प्रदमात विवेक _ अनादेय व्यप्रद्ाराएं पियिक: ० के अनादेय व्यवहातराणा पुन ॥ अर्धिस्थानेतत्पृतरपोआद्बोप्ययोछतद रॉ अ्धिएफने प्रतिदेधि रण्सिशति 2 च अर्धिभाषा घोधने प्राड्वियात: कृर्पात.. ५ * आर्शि सादा भोधने च उत्तर दशेनाए्प्रमेर उत्तर पराद प्रक्षियः विषये एंदस परिछझेद ३ (५ प्रतर्यार्धिन उत्तर लेबनम्त




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now