निघरात्ररत्नकर भाषा | Nigharatratnakar Bhasha (vol - I)

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Nigharatratnakar Bhasha (vol - I) by वैद्यराविधत - Vaidhyaravidatt

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about वैद्यराविधत - Vaidhyaravidatt

Add Infomation AboutVaidhyaravidatt

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
गाण्यादभम्मयाग , * बिषय॑ |>॥ । विषय, . रू 1 ४२५ | पटोलादिघत गुदर्यादिकाहां ..._;: »-| रंभावन्दयोग . लोजशक्त पान '. ; “ |» द्धित्थरसादिलेह _ 'छषकीछदिकालकएं ,# | पजादिलेड सामान्यचिफित्सा # | फरंजबीजादियोग सालीमेंक + # शंणपुपपीरसादिपान ; बिंडंगादिचंण # जीरकादिधुम . _ जाम्वबादियोंग . , £ , बातिडुंद्रस « संनिपातकोदद्कांलसेण | » | बातिरतपान विस्वादिकांदा : ४२६ | यृधांदिपान . फोलाइबलेइ / | गुहुच्यादिरस ' “झुरसापान £ | पारदादिधण ._ सनसिलादियोग ४ | नीरकादिरस . . अधश्वत्यवल्कलादियोंग # | वंमनासतयोग ' लानादियोगत्रय # | परच्य : घात्रीफलपान # | अंपष्य' 'मंसरध्ततत # | तृपाकर्मधिपांक एलादिचण # 1'प्रायश्चित्त ! पहुकादिधृत £ | #प्णानिदांन चन्दनादिपान _ -# | तृपांस्थरूप उदीच्यनल # | वैपासंप्राप्त घन्दनपान . # +वातज॑तृपालसंण मुद्गकाढ़ों # | पृवंरुष फीलमज्जी ४२७१ वाततृषाचिकित्सी घीजपरादिपटपोंके -# | तेल 'हुरीतकीचण & 1 पानी जंदव।म्रपल्लवरस . £ 1 पित्तकीतृपासंच्ेण झछिंघांदिपान £ | चिकित्सा उप्रंगंधांदियीग £ | तंडुलोदकपांन शामैन्यचिकित्सां '# | मधुकादिफांट जातिपत्रचण # | कफकीतृपाकाल॑च॑ण असाध्यक्षदेलस॑ंण.' / ॥ सामान्यचिकित्सा प्रागतुकछदिलचयं . # | विल्वादिशाढ़ा उपद्रष . ४२९८ कफतृपाप्तयोंग सामान्य॑विफित्या: » । ज्ञुतजतृपाललण आम्राध्यिकाढ़ा £ | चतजतृपाचिकित्सा 'छम्बपरल्लैबादिकाढ़ा £ | चयजतृपालच्षण 'मसरपक्तभस्मावलेई # 1 चिकित्सा हर कं 1 आमजतीसलंच्ण '. चिकित्षां ह 'जलपाननिय॑प्त गे ट्ट्ष॑ ३ ५ ७ ७ २ है प्८ शर्प 2३ बटादिलेह अबलेडइ ताग्रादिरध शअीखण्डयोंग आमलप्यादिगुधिका 1 गटां काश्म॑यादिकाडा जीरकादिचण आम्रादिकाड़ी द्वाक्तादिनस्य जीरकादियोंग 1 क्ुछठादियोग तप्रलोष्ठादियोग मंयादियोंग रसादिगृटी रसादिवृ्ण लेप “गटी ्ट ४ ७४७ ४ ४७ ७ ७ ४७ ४४ ७ “5 ४ ७ ७ ७४७४- ४ 52८ न्प्+ 3 1 मीठेछजीवनोयगण कसेबांदिकाढ़ा . चुद्रादिगएडू लप प्प्य अपच्य 3 ७ ७ ७ ७ ४७ २७ ४ के संप्राप्नि परवरूप 'उपद् व॑ असाध्यलक्षैणतृपा उपसगतृषासामान्यविधि ब द छ््ट है ७. ७, ७: ७ ७ ४ ७ ७ ७ ७ ७ 3 ७ :2 0७ ७ ४७७४७ह ७४७४४ ऊ न मछंभ्रमनिद्वार्सन्याक ' वायदीमच्छौकालचण पित्तकीमच्छाकालचण ७४ ७ ४ ४.४७. है ल्‍्प्ज् न




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now