जातकतत्व प्रारम्भः | Jaat Katav Prarambh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Jaat Katav Prarambh by अज्ञात - Unknown

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
विषय कोठकियोग आलसीयोग क्ापकितायोग खल्वाटयोग शोभननेश्बयोग बंदब॒द्‌ लोचनयोग मिलिताक्षयोग विकछनसनयोग मंदलोचनयोग सकनेबयोग भेन्नरीगी अंधयोग निश्वाव्योग मेत्रमाइयोग बामनपेघातयोंग दक्षनशैेघातदाग नूपकोपसेनेत्रोप्पाटनयोग नेज्नपमादयाग कागयोग इपविफागपोग बपिरपेनत क्यच्छदुपोंग नाशाछेद्योग झुझदधपपाग मंकयोंग ( गुगा ) शगस्बर याग पर्दा सतपभद्धपाग दुम्नश्च याग दाधमप्रपोत ई#स्द्ोदोपपीस गदगदबाशइयाग सराहा दद्पवाकुपाग (४) चू० छ्र्‌ ३ क्र छह ८ रद | <६ <३ <ज विषय पु दतविकार योग <७ इस्तनाड़ा इस्तपीडायोग.. <७ छुब्जयोंग [ कबड़ा ] ८८ कठिनचित्तयोग <८ विरुद्धचित्तमोग छः अंडवू द्धयोग क् जंवाक्षतियोग <९ चंगुयोग ष इनसेविशेष क्यादेखना 5४ द्ारीरलश्नणपरसे लग्नचंद्र है ओर ग्रदोकीपरिक्षा ६६ मेपराजी बेन च््‌ दुपभगजी अर दे भिथनराशी » 81 करेराशी +» ५३ सिंहराशी _ +* 5४ नया राशी » 1 लुझ रफ्ती ॥ 5५ बूध्िक राशी ५ ५९५ धनराशी +# हि मकरराशी +» भर छंभराशी # बज मीनराशी +# लक ग्रदपरीक्षा पृष्ठ ९७ से १९०६ हे /ः अवथपनावबंक, | धर्नायोग 1 स्वस्पयपनीयोग ३०८ सडुधन या महाथनीषोग '| मदखनिष्फेश योग श्र द्विक्तइश्र निष्केशयाग ११. अयतानिष्फेश योग जे अपतापिद निष्केशवोग. १,९




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now