समवायाङ सूत्र भाग १ | Samavayang Sutra Bhag-1

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Samavayanga Sutram Bhag-1 by घासीलाल जी महाराज - Ghasilal Ji Maharaj

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about घासीलाल जी महाराज - Ghasilal Ji Maharaj

Add Infomation AboutGhasilal Ji Maharaj

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
श्री मणिक्ष सारत #>पेताम्भर स्थानडवासी बेन शॉजरेडार सशमिति, के भरेरीयाइबारे5-अऔीन क्षेह४ पासे, २०४2 5111० न न। न। १6, मै शरमात ता, १८-१०-४४थी तो, ३3१-१२-६१ सुधीभा चणत यथयेक्ष भेग्णराना भुणार5६ नाभे। ् ्च्छ क्षए३ भेग्परेवा' जाभवार अप्रवारी लिरें2 ्.. डेट (नानी सिथ्नी रघभा जापनारत, तथा १, रपणथी आछी रस्म शेरनरेछ नाम जा यारीभां सानेक्ष धरेक्ष नथी,) 4 नल्ज्ल््ं्ज्ज्ंयंें्िहस्‍घतॉस्‍जसस ष्क् | ध््नन्न्न्न्नन्ननभ्भ्लच्ननललस्स्फ्म्बट्फपफपस 1००५ क्सल्म्ल्स््य |




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now