फुटपाथ पर चिड़िया नाचती है | Fut Path Par Chidiya Nachati Hai

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Fut Path Par Chidiya Nachati Hai by भगवतीलाल व्यास Bhagavatilal Vyas

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about भगवतीलाल व्यास Bhagavatilal Vyas

Add Infomation AboutBhagavatilal Vyas

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
फक करना कब्र सीखोगे ? तुम भूल जाते हो कि भ्रव आकाश काफी बडा हो गया है जिसमे सुर्य उगता है तो झस्त भी होता है हवा की सख्त हिंदायत है कि एक आदमी दुसरे के साथ प्रादमियत से पेश झाये क्प्रोकि श्रादमो और श्रादमी के ब्रीच का यह रिश्ता और सब रिइतो से बडा है 1 ताज्जुब है छुम भ्रव भी चाहते हो के में तुम्हारी समाज-व्याकरण के वे अध्याय कठस्थ कर लू जनमे एक श्रादमी विशेषण होता है गैर कई भ्रादमी जातिवाचक सज्ञा । एके क्षमा करना । | तुम्हारी श्राखो को अच्छा ही लगना चाहता लबत्ता में कोशिश रूगा कि शपनी ही उख्ो को अच्छा गता रहू ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now