श्रीमद राज़चंद्र चचनामृत | Shrimadrajchandra

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Shrimadrajchandra by पंडित गगदीशाचंद्र शास्त्री - Pandit Gagdeeshachandra Shastri

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about पंडित गगदीशाचंद्र शास्त्री - Pandit Gagdeeshachandra Shastri

Add Infomation AboutPandit Gagdeeshachandra Shastri

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
प्रकाशकका निवेदन वि स॑ १९६१ में मूढ गुजयतों * भ्रोम्याजचरद ? प्रकाक्तित हज या। 9 उस समप इसरा हिल्दों अनुषाद तिकाह्तेका विचार या। इसके छिए सम्रत १९७५ में आमटाराइक ख० छठ पुजामाई ह्टौराअन्दजीने पाँच इजार ऋपमेकी सहायता मी परमझठप्रमाएक मडछश्ये दौ। उसके बट से १९८२ में “ औमदाजभनद की दूसरी जाइपि भी निरठ गई पर हिल्दी लनुडाद हू नि्कड सका। मेरे फ्तादीम इसके सिए बुत कु्ध प्रसन किया, एक दो विद्ानोंसे कुछ काम मौ करापा पर णतुत्राद पईसीपप्र” न दोनेसे ऐक देना पड और इस तरइ समप बौतता हो गपा ) मापान्तर डायेयें कर कदिनाएयों थी, डिनमेंते पक तो यद थी हि अतुबादकर्ताकों जैरतिदान्त- #रया। तपा असम हर्ईनोआ मीड होसा बढिम दूसरे गुजएती मापा छासंझर मीमद्राम अम्ढकी मावाक्दी अप जागकारी प्वोनी भादिए, तीसरे उसमें इतनी योग्पता चाहिये दि रिपयको इ”यंगम करके दिख्शोमें उत्तम धैड़ौँ किग्य सके। इतने रम्बे समयक्े बाट उक्त गुणेति डिश्चिए विशारदो प्राति हु३ लौर पड बिशाफ प्रन्‍्य साप्रमायां दिन्तींसे प्रकाशित शो पडा ै। एस औचर्ते मेरे पूर्प पिता थौर फट पुंश्शमारका श्वर्गबास दो गया ओर ने अपने जीवन-दालमें इसस्य दिग्दी अनुपाद श देख सके | फ्लिर मो मुपते दर दे कि में अपने पूज्य पितादी और छा» छठ पुंशभाईदौ एक महान्‌ इप्छोजी पूर्ति कर रहा हूँ ६७ बगटीराअन्जीमे इसके अनुबाद और सम्पादसमें ल्पन्त परिभ्रम किसा है। इसक ढिये एम उन्हें धस्पाष” देते दे | बास्दबने स्वर्गीय स्ए पुआमर्पफरो जार्थिक सड्दापता, हरे +रर्गाय पूञ्प पिठादौर प्रेरणा महात्मा गांबौशरे अत्पारिष्द बाप्रह और पंदितरौके परिअमते ही पद दार्य अपने दर्तमाल इपें पूर्ण दा रहा है । विछ तीन बार अपोम रापअखमैसदाय्मासामे कद पड़े बढ़े हन्‍य पुसस्यादिस दाऊर निदरे दे जिसको प्रसा विशनोंते मुक्तकटस की द। मािप्पे मौ अन्य्त ठफ्पोगी और पद्म फ्रच निद्माउशढ्ा आपाशन स्पा ना रद दे, ८रई अपूर्व फ्र्थोका दिल्ली मनुयाद भी झा हा दे जा वषासमय प्रद्यकित दोंगे। पाठकछोप्ति निबरन दे दि दे एम प्रषण आर वूर्च प्रराहित प्रयोद्य परम-पारन भार खूब प्रचुर करें. जिससे इम फ्रन्‍्दो दाएक महान्‌ पुण्उ-द्यायम संदख दा से । हम फ्रयञ्म र्सससाभारणमं र्ज़ प्रचार हो इसीडिए मूल्य मी अदुत दी रूम एग्र गया दे। मगिमुस्त, विक्क-- बफस्ससाशि से १० २ प्रतीक्षा रेशर्भदूर भगमीषन मौदरी




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now