अथर्ववेद सुबोध भाष्य | Atharvaved Subodh Bhashya Kand 6

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Atharvaved Subodh Bhashya  Kand 6 by दामोदर सातवलेकर - Damodar Satavlekar

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

दामोदर सातवलेकर - Damodar Satavlekar के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
पु दडेअधर्वधदका स्वाध्याय |[काण्ड ६ 'ज>--+-०+---+------------:+-----+.-_. ॥६45€९€ €€€₹€€६€€€€६६€६€€6४€€€€€६€€६€६€€€ €€ 99%993953399998393359393923€€<€€€४€6।ई १2० ३ »“( १-श्ममयकाम, मन्म्रोक्तदेयनाः 4 ३ स्वस्ययनकामः)हू. हुए 9 ग्रह्मा चन्द्रमा, $ बदुदेयत्यम,१ ५ पश्चमो5नुवाकः$ ४2५ 3 भुग्धंगिरा: (परस्पर भस्युः1 वित्तेकीकरणकाम/)घ्के के मन्युशमर्न 1 ४४ ञ् विश्वामित्र... चनस्पतिः $ (मन्त्रोक्तदे बता) ५ ३ अंगिराः प्राचे तसों दुष्पप्ननाशनम्‌यमश्-1 ४६ छठ श स्वप्नं५ ४७ डक अग्नि.२विश्येदेधा 1 ३ खधन्या£ छ्ट हे. मन्श्रोक्तदेयता:2. ४९ ठ गाग्य्‌ अग्निः हुहि ० ३ अथर्वा अशभ्विनी1 (असयकाम:)$ भ््र्‌ छ शन्तातिः आप», इचरणःन8 ६ पछोा/:लुवाकः । १ पर हे ५ डे हल न 4 ७५ के छः न्‍ | च् ञ् कै हे ०७ क्र 1 ष्द ड्ु कि हे प्‌ 5 १५ 5 है चर त् है१४ चतुद॒ंदाः प्रपाठकः ।भागलि- मन्त्रोक्तद्वताः युहछुकऋः.. नानादेवताः ब्रह्मा अग्तोसोमो के १ विश्वेरेवाः रनश सदा छम्ताति १ विश्वेदेधा क्न्दे रूट. छठ स्द्दः अधर्ा (यश- बुृद्स्पति , स्फाम-) मंत्रोछदे घता क्र ऊद्गृंभ के भर अर्यमा ] रुद्रःजगतो. ३ पेस्वीजजुष्ठ।अनुष्टप, १ झुरिक्‌, ३ भ्रिष्ठ्‌अनुएप्‌ू १--३ भुरिक्‌ 8... हे ब्रिपदा महाद4 पथ्यापंक्ति,, २ भुरिक श्रिष्टप्‌३भजुष्ठप्‌ | $ ककुम्मती विष्टारपंक्ति।। २ ध्यवसाना शबवरीगर्ा पश्मपदा जगती, इअलुष्ठपू त्रिष्ठपअनुष्भुप्‌ शअनुएप्‌२-१जगती (इविरार ) $ विराद जगती, २, पथ्यापोत्ति: ब्रिष्ुप) $ गायत्री, ३ जगतीनुप्दुप्‌पद,प्‌, प्‌ रजगतों ? चिष्ठ:,9$ जगती2)जगतो$ उष्णिसाओों पथ्यापंक्तिः २ अनुष्ठपू्‌, ३ निचृत नन्हे अनुष्ठुए,३ पथ्यापा' १ जगती, २ मस्तारपंक्ति!, 9 अनुष्ठप्‌ अनुष्युप क््छाहरबिष्युपून २-३ झरिक्‌ पु १८5 ; ; ; £ ; ! ! ; ; ! ; ; ; ! ! ! ; ई ६€€४€९<६&७ €६६%& 9३9३ 999३७ ३३७३७३३०३३७३७-+७७ २०२३७३७७७३३७३२७७ ७७३३७ ७२७+ ६६64६, '99-39 ;




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :