अथुर्वेद ब्रह्मविद्या प्रकरण | Athrvaveda Brahmavidya Prakaran Bhag-1

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Athrvaveda Brahmavidya Prakaran Bhag-1 by दामोदर सातवलेकर - Damodar Satavlekar

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्रीपाद दामोदर सातवळेकर - Shripad Damodar Satwalekar

Add Infomation AboutShripad Damodar Satwalekar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
प्रपम काण्दमें ४ मन्त्रेंके सूचत >प अधधंधेद- ब्रह्मदिधा-प्रकरण साम कन्या पुष्टिकर्त धाउुबाचन धमनौबेधन अलक्ष्मोनाशन शयुनिवारण शतरुनिवारणं शजुनिवार्ण.. हृदे।गकामिलानाशन बेतकुप्ठनाशन खेतक४नाशने जवएनाहमे धामप्राप्तिः खसत्ययन रक्षोप्न राष्ट्रमिवर्धन प्रपत्नक्षमर्थ दौर्घायु पाशमोचने मदृदअझ भाप, मधुविया दीर्षायु श्र न्ध्ा री | [6 ७ छल 09 १. नरम घिछ हूं 1 1 द्वितीय फाएड नाम परम घास मुबनपति. «6 भर | ०0 .& 05 ०8 ०08 00 ,. ०0 50 60 6०ए 08 ०02 00 0 ०0 68 ४८ ०० ०० ०७ ०९ ष् ५ मं शै 0 ७ 6-ता.6 ०0 +० 7 नाम ह आज्तावभेषज दौर्घायु इन्द्रस्य वीयीणि सपत्नहा अ्रम्ति शापमेोचर्न क्षेत्रियरोगनाशम दीर्घादु पाशमोचन अयश्ाति दा्रनाशने दार्घायुः दस्युनाशर्न भमयप्राप्त सुर यलप्राप्तिः शहूनाशने श्ुनाशने शरधुनाशन झनुनाशर्न दापुनाशर्न शध्रनाशर्न शाग्रनाशने पृश्षिपर्णी पश्ुसव पैन शाप्रुपराजय, दीर्षायु दोर्घादु* डामिनीमनो5मिमुणो रण कृप्रिज्ष॑सने सूमिजभर्न यह्ष्मविवईण पश्त विश्वर्घ्मा पहिदेदन | ७ | +# & # े ॑े ७&छ -+& 6.४ <& ७ < <& जद डजशजना- ५७ < ७ + «४ €& - 6 छा न न न ०5 ०]




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now