षड्दर्शनसमुच्चय | Saddarsanasamuccaya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : षड्दर्शनसमुच्चय - Saddarsanasamuccaya

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
-का० १ ६४] मजद्भलम्‌। ३ सहर्शनस्तम्‌ । अनेन च तदीयदर्शनस्य त्रिभुवनपुज्यतामशिदधान: श्रोवर्धमानस्थ त्रिभुवत्तविभो: सुतरां त्रिभवनपुज्यतां व्यतक्तीति पूजातिशायं प्राचीकटत्‌ । ६ ३, तथा जयति रागह्वेषादिशत्रनिति जिनस्तम्‌, अनेनापायापगसातिशयमुदबीभवत्‌ । ( ४. तथा स्वातू-क्रथचित्‌ सर्वदर्शनसंसतसद्भूतवस्त्वंशानां सिथः सापेक्षतया बदन स्याद्राद” , सदसन्नित्यानित्पसासान्यविशेषासिलाप्यानशिलाप्योभयात्मानेकान्त ' इत्पर्थ. । ननु कये सर्वदर्शताना परस्परविरुद्धभाषिणासभीष्ठा वस्त्वंश्ा: के सदभूता. संभवेयु. प्रेषां सिय. सापेक्षतया स्पाद्वाद, सत्प्रवाद' स्पादिति चेत्‌ , उच्यते- यद्यपि दर्शनातनि तिजनिजमतभेदेन परस्पर विरोध॑ भजन्ते तथापि तेरुच्यमाना: सन्ति तेषपि बल्त्वंशा ये मिय- सापेक्षा: सन्‍तः समीचीनतामझ्चन्ति । तथा हि-सौगतेरनित्यत्वम्‌, साख्यनित्यत्वम्‌, नेयायिकेवेंगेषिकेइ्च परस्परविविकते नित्यानित्यत्वे, सदसत्वे, सामान्यविशेषी च, सोमासके: स्थाच्छन्दवज भिन्नाभिन्ने, नित्यानित्यत्वे, सदसदद्यो, सामाव्यविशेषो, शब्दस्प नित्यत्व॑ च, कफेश्चित्‌ काल्स्वभावनियतिकर्मपुरुषादीनि जगत्कारणानि, जनदर्भनकी जग-पुज्यताके द्वारा उसके प्ररूपक वर्षमान सगवानूको त्रिभुवत्त पृज्वताका स्पष्ट सूचन किया गया है। इससे भगवानूका पूजातिशय प्रकट हो जाता है ( ३. जिन--जो राग-द्ेप आदि समस्त अन्त घत्रुओको जीन लेता है वह 'जिन है।इस विभपणसे वीर भगवानका अपायापगम अपाय 5 दोपका, अपगम 5८ निरसन नामक अतिमय प्रत्रद होता है ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now