अथ आख्यातिकः | Ath Vedangprakash Akhyatik Bhag-viii

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Ath Vedangprakash Akhyatik  Bhag-viii by अज्ञात - Unknown

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
र्‌ भूमिका ही करता है, और जो नहीं है. उसका द्वाता क्या, और जो नहीं होता उसके करते का तो क्‍या ही- संभव है १ दूसरे विशेषार्थवाचरू उन को कहते हैं कि लिनका प्रयोग विशेष व्यपद्दारों में किया जावे। जैसते--देवदरः कि स्रोति ? स झृत-पचति, भुदक्ते, पठति, ददाति वा इत्यादि । जैसे किसी से किसी ने पूछा कि दवदत्त क्‍या करता है ९ बह उत्तर देता है--पकाता है, भोजन करता है, पढ़ता है अथवा दान देता है । ( प्रश्न ) आख्यात का कया लक्षण है ? ( उत्तर ) भावप्रघानमास्थातम्‌ | जो धातु से परे लकारो के स्थान में तिंदू आदि आदेश (किये जाते हैं थे भावप्रयान अर्पात भू आदि धातुओं के सत्ता आदि श्र्थों क याचऊ होते हैं, उन्दी को आशख्यात ब्ते हैं ( प्रश्न ) क्तिने अर्था में लकारों के स्थान में तिद आदि आदेश होते है ? * ( उत्तर ) तीन अथाय्‌ भाय, कर्म और कर्ता अर्थों' में । भाव दो प्रकार का होता है एक आभ्यन्तर, दूसरा बाह्य | आध्यन्तर भाव उस को पहते हैं. कि जो चालथेपात्र म सित होकर सामान्य अर्थ का वाचक द्वीत है। जिसके एक हागे से एक ही वचन होता है जैसे--आस्यते भयता भवदूभ्यां भर्वाद्धदी, आसितत्यम, भवित वब्यम इत्यादि | इस में कद्गाप ठ्वितचन और बहुवचन का प्रयोग हो सकता | और बाहयभाय उस को फहन हैं. कि जिस में एक, दि भर बड़्वचन के प्रयोग होयें। रद्विद्दतोीं भातओ द्रब्ययद्ववात । गद्दाभाष्य अ० ३ । पा० १ । सू० ६७ | द्वव्यों के समांच इस के अनेक प्रसार द्वोने स एक, दि आर यद्ववचनान्‍्त श्रयोग द्वोते हैं। जैसे --भार भागे, भ।याम पाक. पाक, पाक: शायादि 1 $ जिस ६१1१ ४




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now