श्रुतिसिद्धान्त-रत्नाकर | Shruti-Siddhant-Ratnakar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : श्रुतिसिद्धान्त-रत्नाकर  - Shruti-Siddhant-Ratnakar

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about पंडित किशोरदास - Pandit Kishordas

Add Infomation AboutPandit Kishordas

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
प्प ) 0) 2) है ५) ५) ) ] 9) फट _ह। वाथिव० न ड न स्पण ५०२ न+-चच्यख्यि ४ दस्किफिलना ++++ श्रीराधागोपालचरणारविन्दमकस्दभुझ-श्रीसनत्कुमारसन्ततिप्रवतेक-श्रुति- स्पृतिधरमपथप्रवतिक-भदामेद्नव्यंत प्रतिष्ठापनदेशिक-श्री माव ब्विस्बा कसुनीन्द्ूबीयीपधिकावालियर-जयपुरादि-राजझुरु-पसम- पृथ्यत्तपोनिधि श्री १०८ अह्चारिश्रीगिरिधा रिशरणदे- वाचाय्यजी महाराज ! श्रीमोपाटछावपरतत्ोद्वो बक- न्य, जप यह | ( हि ह हट ध्ल्यूञ १1 शुतिशिल्ान्तरलाह्षर 1 ्' क आपका निमछ यश्ोविस्तारक स्मारक समझकर सुद्वित तथा हि प्रकाशितकराकर आपकी सेवामें समर्पण करता हूं, ध कृपयाअड्डीकार कीजिये। ! आपका विनोत चरणसेबक- रे का) ब्नचारी धर दिद्यरीशरणदेत ;छ का . इल्दावन. । 3 मत ८ ४28-2:8927:8-273<:7०८:६: ००-८7 किले लय 5 2 ८८२८८ ए पक फिल्टन्दट दफटा ( 9 भगबाव्‌ ओ्रीदासुदेधकी खरूपगुणादिप्रतिषादद-ओऔीलिस्श(्क है (पर ह ते। ०. ह [1 ह॒ 2... ऐिद्वान्तकों सरबताएों प्रकाशक-मुमुक्षुजनजीवातु-मन्द्‌ततदन- ( ] कु १




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now