भारत का आर्थिक भूगोल | Bharat Ka Arthik Bhugol

Book Image : भारत का आर्थिक भूगोल - Bharat Ka Arthik Bhugol

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about रामनाथ दुबे - Ramnath Dube

Add Infomation AboutRamnath Dube

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
पश्चिम मारत में चल्लने वाला प्रति-चक्रबात जिसका उल्लेख ऊपर हो चुका है समय सप्य प्र च्ीए होता दहतय है । इसका कारण यह है कि अनेक चक्रवाब उत्तर भारत के शीतकालीन मौसम की दशाओं में एक पस्विर्तन्त उपस्थित. कर देते हैं । इन .. चक्रवातों में प्रायः दस में से नौ. मूमश्य स्प्रगर से ईरान होते हुए आते हैं झऔर शेष मध्य मौरव या अरधै-सागर. में उत्पन्नः होते . हैं इनका मार्ग साघारणुद्र हिमालय पव॑त श्रेणियों के साथ होता है। 2५ अच्छांश के दक्षिण-का प्रढेशु साधारणतः उन के प्रभाव. के बाहर. रहता है । ये न्रक्र- . वात योरोपीय _नवक्रवालों से मिलैते-ज्लुलते हैं परन्तु उत्तने प्रबल ज्द्दी होते | इनमें से अधिकांश के कारश समूचे उत्तर भारत + में थोड़ी-सी वर्षा होती है तथा उच्च हिमा लय . में खूब हिम-दृष्टि होती है .। इन चक्रवातों के साथ-साथ तापमान में स्पष्ट परिवतंन होते हैं । उनके आने के- सप्रथ चित्र ६--मई में तापक्रम ही तापमान कुछ बढ़ता है तथा समाप्त होने -पर गिर जाता. है | ऐसे अवसरों पर कुहरा हो जाता है | इन चक्रवातों द्वारा पहाड़ों फर होने वाली हिंमबृष्टि उनके अन्तर्गद नमी के ऊपर निंभर रहती हैं । जब उत्तमें नम श्ररज-सामरींद्र हवा अधिक होती है तब पहाड़ियों पर काफी हिप्नइृट्टि हो जाती है । -उह तभी संभव होता है जब उनके -मार तभी संभव होता है जब .उनने मार्ग क्री यदत्ति दक्षिय को ब्धिक होती है । इन चक्रबातों का मपूर्ग विषुवतर्खीय श्ान्त पेटी (1201त7ए705) झ्ारा निर्धारित होवा है । जब शान्त पेटी की स्थिति उत्तर की श्रोर अधिक होती है तब भारत में वक्रवातों-का मार्ग उत्तर की शोर झधिक होला है इसलिए तब उ्में श्ररव सागर-की हवा कम रहती है । परन्तु जब शान्त पेटी की स्थिति दक्षिण की श्रोर झधिक होती है तब चक्रवातों का मार्ग दक्षिण की ओर अधिक होता है । इस प्रकार चक्रवाबों में नम हवा अधिक रा जाती है और परिशाप्नस्वछुप हों पर मी परु वीषिण हिमबष्टि होतं।. है । _ पहाड़ों पर भीषस हिमबृष्टि हो जाने से चक्रवातों के बाद .का प्लौसमु बहुत ठंडा हो जाता है । चक्रवातःके निम्न- दुब्राव के चारों व्योर वायु घूमती है




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now