मृत्युंजय | Mrityunjaya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : मृत्युंजय - Mrityunjaya

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्री लक्ष्मीनारायण मिश्र -Shri Lakshminarayan Mishr

Add Infomation AboutShri Lakshminarayan Mishr

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
पहला झंक १७ जो भाषा पढ़कर आप साहब बने हैं जिसके बल से अपने ही लोगों पर आतंक जमाते हैं उस भाषा में अवश्य सुना होगा । अंग्रेजी में मृत्यु का देवता जहाँ रहता है उसका कुछ नाम तो होगा ही । दूसरा-तीसरा ओ हो नरक का नाम है यह किस भाषा का ? चौथा ठीक नरक का तो नहीं यमराज के लेखा-जोखा का उनके निवास और निणंय का जो स्थान है वह बम्बई से कई गुना बड़ा है । वह कहीं नरक गौर स्वर्ग के बीच में होगा । जहाँ से दोनों की व्यवस्था हो सके । अपने साथ के लोगीं के साथ मन्द हँसी । पर आप लोग तो अंग्रेजों के पुरखे जहाँ गये होंगे वहाँ जायेंगे । यहाँ तो हमारे जेसे अपड़े रूढ़िवादी रहेंगे । पहला भरे यह सब पण्डितों की मुल्लों की पादरियों की करतूत है हम कहीं नहीं जायेंगे । चौथा कहीं तो जायेंगे । यहाँ बराबर बने रहने के लिए आप नहीं भाये यह इतना आप भी जानते हैं । दूसरा अच्छा महाराज नमस्कार । हम लोग किसी कायं से चले थे । तीनों चलना चाहते हैं । मकान के बीच का द्वार खोलकर सरदार पटेल निकलते हैं और बाहर खम्भा पकड़ कर सिर भुका लेते हैं । महात्मा गांधी द्वार पर खड़े हो जाते हैं । चौथा मच्छा अवसर है आप लोग भी चलें दर्शन कर लें । महात्मा का द्वार सबके लिए खुला है । किसी को रोक नहीं है । वे तोनों जल्दी से निकल जाते है । सकल पदारथ एहि जग माहीं करम हीन नर पावत नाहीं ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now