उच्चतर आर्थिक सिद्धान्त | Uchatar Arthik Siddhant

Uchatar Arthik Siddhant by एल. एल. आहूजा - H. L. Ahuja

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about एल. एल. आहूजा - H. L. Ahuja

Add Infomation About. . H. L. Ahuja

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
दरा ) प्रथ्याप विवय 59 हर ठ्द अत 54 55 राष्ट्रीय झाप का निर्धारण (ए06(टास्पएए8(0109 0 हेड ०951 उसध्छाफठ] राष्ट्रीय भाप का मिर्धारण--भ्प्रूण रोजगार मन्तुलन--सरकार तथा राष्ट्रीय झाय--राष्ट्रीय भाप का निर्धारण बचत निवेश हृष्टिदोण द्वारा व्यास्या 1 सेजगार तथा राष्ट्रीय भाप के निर्धाएवक उपभोग प्रदुत्ति (ए061९7000:80185 0६ छत ०कपाशा डाप. पडध0051 15९0०घ08 . पिएरण्डापुस 10 ए00उणएए6 उपमोग प्रवृत्ति प्रथा उपमोग फलन का झपषं--भोसत उपभोग प्रवृत्ति भोर सीमात उपमोग प्रवृत्ति -उपमोग प्रवृत्ति विपयक बेस्ज वह सेतोवैशानिव नियम उपभोग प्रवृत्ति के निर्धारक तत्व - उपभोग प्रवृत्ति बी धारणा वा महत्व । रोजगार तथा राष्ट्रीय माप के निर्धारक निवेश प्रेरणा (06060प201506 ०4 एप एकुप्य8घ 2च्ते 10081 00006. हपतेए०6फह0 ह0 ारवहदि निवेश प्रेरणा के निर्धारक- पूंजी की मामात उत्पादवता--वचत भ्ोर निवेश में सम्बरध 1 “ गुणक का सिद्धान्त (706०: 0६ ऊपर जाल्त केरज की प्राय गुणक को धारणा-- गुणक का रेखाइृति द्वारा स्पप्टीवरण-- भाप प्रवाह में विभिन्त दिद (193%5268 शोर उनका गुणक पर प्रमाव--गुणक के सिद्धान्त दा महरव 1 सजदरी तथा रोजपार में सम्बन्प (ऐए७०७ 50५ कफ 0फुफ्08ण) नकद मजदूरी तथा वास्तविक मजदूरी -प्रतिथ्टिति भ्रयंशाहिय्रयों था मजदूरी तथा रोजगार मे सम्बन्ध वे विपप मे संत --प्रतिथ्ठित प्र्यशारित्रपों के मत की केन्ज हारा भालोचता - मजदूरी तथा ऐजगाए के सम्बन्ध केनज का दिस्तेषण केन्ज के मजदूरी-रोजगार सम्बन्ध में भाघुनिव मंधास्थियों के कुछ सयोपन । व्यापारिक घफ सिद्धान्त (०0१ ०६ ५50७ एफिणट्डी व्यापारिक चक़ के प्राचीन सिद्धान्त मनोवंज्ञानिक सिद्धान्त, मति-निवेश सिद्धांत, अल्प-उपभोग सिद्धान्त --केनज हारा व्यापारिक चक़क के सिद्धान्त में योगदान-- बेन्ज के सिद्धान्त को भातोचता-स्वरक सिद्धान्त--गुणक तथा त्वरक की घन्तक्रिया द्वारा व्यापारिक चक्कों की उत्पत्ति सेम्युलसन का मॉइल-- दिवस व। व्यापारिक चक्र सिंदान्त । 56. घत्पथिकमित बेशों के लिए केनन ने सिद्धान्त की प्रायणिकता झप्वा सार्थश्ता (किहीलरडपट९ एव हू लकुप्रथ्हाइए 50ह ६० एत७१-ऐे5र७1०छ०ठ एठएध068) भ्रल्पविवसित देशों में बेरोजगारी के पारण तथा स्वरूप मिझ हैं-केन्ज के सिद्धांत में की गई सात्यताएं भल्पविकसित देशों की स्थिति में सत्य नहीं हैं--केनज का गुणक सिद्धान्त भ्त्पदिवसित देशों पर लागू नददीं होता पुष्ठ 832 हैव2 843 है54 855-866 867 873 अ74 884 885-900 901-908




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now