आपका शिशु | Apka Shishu

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Apka Shishu by अज्ञात - Unknown

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
७ हे शीघ्र ही शिशु हाथ से स्पर्श करने लगता है, श्रपनी साता की धघोती का छोर पकड़ उससे श्रपने हाथों को मलता है । यह क्रिया उसमें स्वाभाविक रीति से उत्पन्न होती है श्र बह श्न्यमनस्क होकर यह क्रिया करता है । उसका सारा ध्यान इसी वेदन पर रहता है । तीसरे मद्दीने सें वह किसी प्रयोजन से जो भी वस्तु उसके समीप श्राती है उसे पकड़ता हे श्रौर धीरे-धीरे पकड़ी हुई वस्तु को अपने मुँह में डालता हे । जब उसे कुछ नहीं मिलता तो. श्रपने श्रैंगूठे को ही पकड़कर मुँह में दालकर . चूसने लगता हैं । कभी-कभी एक हाथ से दूसरे को पकड़कर मुह में ले जाता है । बहुधा दोनों हाथ मिल-जुलकर दो काम करते पाये रये हैं ।. दृष्टि और स्पश का सम्वन्घध--श्भी तक शिशु का ध्यान श्रपने अंगों की श्योर नहीं गया । उसे यह भी पता नहीं कि उसका शरीर है भी या नददीं । जब वह चार मास का होता हे तो उसे श्रपने हार्थों का श्रनुभव होता है और वड़े ध्यान से चहद भ्रपने दार्थों को देखता रहता हे । कितना झ्ानन्द उसे अपने नन्हें-नन्हें हाथों दौर छोटी उँगलियों को देखकर होता होगा जिनको पकड़कर वह खेलता है श्रौर बड़े चाव से मुँह में डालता है । कभी कभी चद्द अपने हाथ पकड़ने के बद्दाने किसी श्र वस्तु को पकड़तता है । इससे उसका स्पर्शवेदन बढ़ता दी जाता है। जो भी वस्तु उसके समीप श्ती है या जिसे चह देख पाता है उसे पकड़ने की चेप्टा करता है । अपने इसप्रयरन में वह कभी सफल दोता है. श्र कभी असफल 1 उतनी दृष्टि से नहीं हसें अपने हाथों से वस्तुओं की जितनी जानकारी ग्राप् होती है । अतःशिशु को ऐसी सामग्री देते रहना चाहिये जिसे पकड़ कर वह श्रपने सुँह तक पहुँचा सके । माता का मुँह भी शिशु के लिये एक श्कर्पक खिलौना है जिसके सारे भाग का निरीक्षण-परीक्षण शिशु अपनी कोमल-कोमल उंगलियों से करता रहता है । कितने हर्प का हे वदद दिन जब शिशु अपने पाँवों का पता लगा पाता हैं । झपने पाँव के अँगूठे को पकड़कर मुँह में डालने में उसे झ्पार हर्प होता दे । शरीर के विविध अंगों की खोज में वर्ष के बाकी महीने वीतते हैं । चपं के




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now