वयं रक्षाम | Vayam Raksham Purvardh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Vayam Raksham Purvardh by अज्ञात - Unknown

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
हूँ कं में रंग दिया है। फिर भी यह इतिहास-रस का उपन्यास नहीं “श्रतीत-रस' का उप्यास है । इतिहास-रस का तो इसमें केवल रंग है, स्वाद है श्रतीत-रस का । श्रब श्राप सारिए या छोड़िए, श्वापको श्रख्तियार है 1 एक वात श्रौर, यह मेरा एक सौ तेईसवां ग्रन्थ है । कौन जाने, यह मेरी अंतिम कलम हो ।. में यह घोषित करना श्ावश्यक समकता हूँ कि मेरी कलम श्रौर सें खुद भी काफी घिस चुके हैं । प्यारे पाठक और लगुदृदस्त सित्र यह न भ्रूल जाय॑ं | दिल्‍ली-शहादुरा २६ जनवरी १४१३ श्ञानघाम-प्रतिष्दान | -पेतुरसीम




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now