रसरत्न समुच्य | rasratnsamuchya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : रसरत्न समुच्य - rasratnsamuchya

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
रसरत्नससुचय स्थ- यू बिपय. मर | बियय. . मुद्ठ गुदज हरस्स ८... ««. २८२ खप सिद्धाजक रस... ८८८ ४९० सुद्कदाररस + “रेप सवोरोग्य रस अथवा सवौी- गा हक. शत हु रोग्यवटी «न... «८ ४१९९ कर त बह “मर सदी का कक तीक्षणमुख रस डुपद अहणा गज केसरीरस ्त्छ्डर डितीय तीक्षणमुख रस. «... २९१९ सन्रि अभावस्स .« « छेद जर्शश्कुठाररस ........ ....;. |पोट्ठी रस. ०»... ८० ४१७ जैछोक्यतिलकर्स .... ३९२ वहिज्वाठा वटी रस '. «८८. सामान्यउपाय «८. ... ३९५ वज्घर रस. ८... ८... 9१८ सामान्य प्रकेप ८८८. मम जि महणी कपाव् रस नम्बर पोडसोइध्याय । सौवचछादि चुणे .. छ२५० उदावर्त रोग «... ........ १९८ श्रहणीहर-सुरतादि चुणे «८. ; उदावर्तत हर घ्रत ....... ....,». सामान्य उपाय ८... ०. ४२९ अतिसार ( दस्तोंका हो- अजीण॑ रोग «८८. .. ४२२ ना) रोग ........ ... ३९९ |अनीर्ण कटक रस मा दूईुर रस... ....... .....;. विष्वस रस. «८... «८. ४२३ जानन्दमेख रस ... ४०० विप्राचिका विजय रस... सुधासार रस ८८८. ... ४०१ | अग्ि कुमार रस न. 2२४ छोके१वर रस कक कक छ्०्प वडवाग्रि रस ब०& कह 9] छोकनाथ रस «.«« .... ४५५ वेश्वानर पोठली रस... ««.. ४२९ नागसुन्दुर रस «८८. .... ; . 'वषवा सुखीं मुदी :.त. छेणुट पण्निष्क तैठ॒ .... ८... ४०६ |क्रव्याद रस «०»... १०० 27 सम्रहुणी राग... .... 2०७ राज छोखर वटी ८ घेर व्कपाट रस « «८. गपकी स्रि कुमार रस-८«... «००० 3 अग्चि कुमार रस-.-«- ... ४०८ | अम्रत बी. «««- नन्छरिए कनक सुन्दर रस «:««« >>. रक्षिस नाभा सस «० छरे हें ग्रहुणी हुर स्स.««« ... ४०९ जीवन नासा रस «तन छेऐे 2 नचृण्ड सम्रह गंदूक कपाट वड़वानछ रस «०»... «8९% रस कि ...» 3. | अम्चिजननी वटी फिसस्था




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now