स्वाराज्य सिद्धि | Swarajya Siddhi

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Swarajya Siddhi by मंगलहरि मुनि - Mangal Hari Muniश्री परमहंस स्वामी - Shri Paramhans Swami
लेखक : ,
पुस्तक का साइज़ : 8.22 MB
कुल पृष्ठ : 282
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

मंगलहरि मुनि - Mangal Hari Muni

मंगलहरि मुनि - Mangal Hari Muni के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

श्री परमहंस स्वामी - Shri Paramhans Swami

श्री परमहंस स्वामी - Shri Paramhans Swami के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
प्रकरण १ श्लो० ४ ७ से जो न्रह्म देश चस्तु काल कृत भेद से रहित है अथवा भेद प्रपंच विनाश से रहित है ( यत जाग्रत्स्पन प्रसुप्तिषु ) ताटस्थ लक्षण और स्वरूप लक्षण से बताया जो तत्पदा्थ न्रह्म है सो ब्रह्म दी ( तत्सष्टा ) इत्यादि श्रुति प्रमाण से प्रत्यगात्म रूप हुछ्मा है इस तात्पये को सन में लेकर अन्वय व्यतिरेक युक्ति से त्वंपदाथ के संशोधन के बोधन का प्रकार सूचन किया जाता है ( यत्त्‌ ) वह प्रत्यगात्म न्नह्म जासत स्वप्न सुपुप्ति रूप परस्पर व्यभिचारी अव- स्थाओं में ( विभाति ) झन्नुगत रूप से भान होता है अर्थात्‌ ापस में जाप्रदू आदिक अवस्था्मो के व्यमिचारी होने पर भी सो आत्मा व्यमिचार से रहित है ( एकम ) जाअत्‌ आदि अब- स्थाओं के भेद होने पर भी जो प्रत्यगात्म घ्रह् भेद चाला नहीं है ( विशोकम्‌ू ) शोक से रहित दे अर्थात्‌ झानन्दरवरूप है ( परम्‌ ) तथा जाश्रत्‌ू झादिक तीनो अवस्थाओं के सम्बन्ध से रहित है ॥51। अब औाचाये वेदांत के अधिकारी को कहते हुए कतेव्य भूत अंथ रचने की प्रतिज्ञा करते हैं । शिखरियणी छन्द । छाधीतेज्या दानव्रत जप समाधान नियमेविंशुद्ध- स्वान्तानां जगदिदमसारं विस्शताम । झराग- दषाशामभय चरितानां हितमिद मुमुचणां हृदय किमपि निगदामः सुमघुरम्‌.।४॥ वेदाध्यन यज्ञ दान तप. उपासना इन्द्रियानिग्रह आदि से शुद्ध अन्तःकरण वाले यदद जगत असार हे ऐसे




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :