वेदान्त पुष्पांजलि : | Vedant Pushpanjali

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Vedant Pushpanjali by रूपकुमारी देवी - Roop Kumari Devi
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 17.42 MB
कुल पृष्ठ : 640
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

रूपकुमारी देवी - Roop Kumari Devi

रूपकुमारी देवी - Roop Kumari Devi के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
भभिका ः द् दूर कर देती थीं । विशेष करे श्री अध्यापिको गडूण्देवी जौ को मैं इस लिये ऋषिनी हैं कि उन्हों से मुझे घ्रह्मदशैन करवाया गौर मैं उन की कुपा से जटतब्गद का तरव समझने लगी । जच से सुभे अमेद ज्ञान हुमा तथ से जो मानन्द अुभ्से घाघे छुआ उस के पहले घन आानिस्द कभी नहीं मिछा था । अतः नमः परमर्घिस्य व नमाइध्यापिकाय 4 यह कह ऋर इस भूमिका का समाप्त करता 1 ईतिं सुंभमूधाते पनलेड्को-- अ रूपकुमारी देवों ज्षयपुर्नगराघीश खघाई रामंखिद ४. 6. 0. 8. 1. की सद्दधसिमणों तथा शी १०८ थुम मेजर जनरल सर सब माघवसिद देख सरपति _फ. ७ 8. 3. ७. ए . द. ऊं 9 ए. ४.0 0. छ. 2. ते. 1. जी करे माता चल्यान जयपुर सं १६७८ फार्तिक मास १३ अक्तूबर सन्‌ शु६५१ ई० ष




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :