नथावतो का इतिहास भाग १ | Nathavato Ka Itihas Vol-1

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Nathavato Ka Itihas Vol-1 by अज्ञात - Unknown

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
री बकेट्रेरटरटक 4 नागनरटेनटटटिकिनाच नस नर नजट्रेटरिटटडीड ००० फेर न बडे रन नव वनिटरनरनाण नेक र कनट्रेटिि ब्रेड न कदर | ९४ हे नाथावतों का; इतिहास । अरटटटडटअपयन्टिटडटटडटललगसडारटयफलदवययनययललवुनट नल न्नटनननय, मनन सय आग बाणणणणण पड न ावकाणाण नननाणासण पास रण गणग्णण नि ह लोग इन नामों से कछवाहों का !! होते हैं । जयपुर राजकीय संग्रह में ॥ ज्यादा उत्लेख करते हैं -छर यही ! एक सचित्र रंगीन यश चृत्न: देखने १ नाम इस सें नहीं हे यह आश्वय है ) मे आया था जो संशोधित पीहीयां इसके सिवा (ख ) में २९५, (गम) के अनुसार बनाया शया बतलाया ६७, (घ) में ३००, और ( ड) में ब्रा 'ट्ररमननणर जाता .था । उस में कत्सचाघ ३१८ पीढ़ी है । राजकीय यशबघूस्त 0! नहीं- 'चित्सवोध' नाम था। ्मौर (घ) चैशावली चहडत्त मिलती | वहीं ऊपर की पीडियों में दिया 4 है । और शेप में १०-- ५ का ॥ गया है। दिशेष विवेयन यथास्थान | छत्तर है। अस्तु इनमें कम आर / किया गया दे वह दृप्ठच्य है। . “नए नै ७ डिक हक लक न, कनिपटट िनकक सके फेरे जि भला. >>... पिन न...» खुकन कटे न 2 | $ भ कक 4-० लकनस्सीन ही अकेट्रेटस्रल क्र लनानम कच्छ के नाम सब में हैं. । परंतु झाघु- 1 | निक इतिहासों में कच्छ की जगह अॉियायदुर से किकन गा फत्सचाध का व्यवहार किया जाता है) खें० ६६९३ ५वि० | जिस के कारण कई तरद के सन्देदद ह। रामनीमी । हनूसान शर्मा, भर . गे ्मस्कू हक थे 1 द बल निनिटररटननन्रेरईन अकसर दा न्नम्सड 5 थे वन, # डूब कि डक *ैनननकेट्रटरटकिर मिट, न “२ झ्ुप प्िकलन बरस: उकेलेनवक कसम कट के 4 केक कब, 2०. लक- के गनयल्यलरम्न लेक कदन्व १ेशरक सिर ० की पे कलर क-क पर ७ _ : ७-०, . «..”. ही] |




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now