हिन्दू भारत का अन्त | Hindu Bharat Ka Ant

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Hindu Bharat Ka Ant  by भगवान दास - Bhagwan Das
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 14.34 MB
कुल पृष्ठ : 806
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

भगवान दास - Bhagwan Das

भगवान दास - Bhagwan Das के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
मारतवपंका राजनीतिक सूगोल थ् समाप्त हुआ । महमूदकी सत्यु इसके कुछ ही पहिले हो युकी थो 1 झरव अंधकार भारतके दो विभाग--सिंघ और हिंद हमेशा किया करते हैं। सिंघकों उन्होंने पहले ही जीत कर झपने राज्य दर घर्ममे सम्मिलित कर लिया था श्र्थात्‌ वह प्रदेश भारतवपंसे एथक हो गया था । हिंदका सुख्य भाग मध्यदेश ( मदामारतमें भी यदद नाम शाता हैं ) श्रौर उसका मध्य क्रक्नास नगर हैं। इस समय राजनीतिक दष्टिसे भी फनोज भारतका फॉंद्र था । शव्वेकनी कहता हैं कोश शार- तफे स्चश्रेष्ठ राजाफी राजधघानी ओर निवासस्थान है । हम दूसरे भागम यतला चुके हे कि कन्नोजमें इन दिनो प्रति- हार समादू राज्य कर रहे थे। चदिक हर्षफ्े समयसे ही फलोल भारतवर्पफी राजधानी थी परिणामत चार सो बपोंफि चैमबसे चह नगर हिंदू सस्कति बिद्वत्ता श्रीर कलाका केन्द्र बच गया था । वहाँ चारो श्ोरसे श्ववान विद्वान तथा थार लोग पकन होगये थे । शत यह स्चासाधिक ए कि शाल्ये रूनीने कस्नोजको दी मु्य स्थान मानते इए नुगोलका चखणुन फिया हू । ( रामायणुक भूगोल-वणनमें कुर्ेन्कों मुख्य माना हैं । ) यद्दों तक कि राजशेखरने काव्य-मीमांसा में स्पए लिखा है कि झान्तर और दिशा कश्नोजसे नापना चाहिये । ग्रस्वेहनोने कदालित्‌ इसी चचनके अनुसार भारतका भूगोल लिखा हैं। गंगा यपुनाका डुआ्ावा--दन्तवेदि --यास्तवसें मारतवफंका मध्य हैं झत पूवं कालीन श्याचा्योनि जो श्ादेश दिया दे कि झत्त्वेदिकों मध्य विन्डु सानते हुए भूगोल लिजना चाहिये चद ठीक ही दे । झन्तबंदिका भी मब्य बिन्दु घज्नोज हे ्रोर चहाँ राजशेयर प्रतिहार सबारोफें राज-




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :