प्रबन्ध - प्रभा | Prabandh-prahba

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : प्रबन्ध - प्रभा - Prabandh-prahba

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

ओमप्रकाश - Om Prakash

No Information available about ओमप्रकाश - Om Prakash

Add Infomation AboutOm Prakash

धीरेन्द्र वर्मा - Dheerendra Verma

No Information available about धीरेन्द्र वर्मा - Dheerendra Verma

Add Infomation AboutDheerendra Verma

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
हल ब्य ध्यौन देने पर विदित होगा कि प्रथम वाक्य यदि सूक्ति के समान होता है तो अधिक आकर्षक होता हैं; कहीं हमको परि- भाषा देनी पड़ती है; कहीं किपी तथ्य को सालकर चने है; कहाँ ऐतिडदासिक दृष्टि होता! रखता पड़ता है, तथा कहीं केवज्ञ कल्पना के घोड़े पर ही उड़ दिया जाता है। परन्तु आकरिमिक छाएम्म ( कएकरछिंए 009पं02 ) निश्चय डी पाठक के सानस पर वधिक प्रेघांव डालता है । छाप: लेखक को सुख-वाक्यों का सतत कर स्वयं अपना सागे बनाना चाहिए । निबंध का प्रारंभ केवल प्रथम परिच्छेद में ही नहीं प्रत्येक प रिच्छेद में ज॑यता हुआ होना चाहिए । में उन लोगों से सहमत नहीं जो प्रारंभ तथा अंत को ही सब कुछ सपगाकर मध्य को कोई महूर्नहीं _ दते। जिंस समय भी शिथिजता जावेगी, पाठक लेख को पढ़ने से बिरक्त हो जावेगा; संभव है वह पूरा लेख पढ़े बिना हीं आपके सादित्यके विषय में कोईर थायी सस्मति बनाले । ऐसी दशा में परी- त्षार्थीको बड़ी हानि होगी । छास्तु, उसे तो इस बात का प्रयत्न करना चाहिए कि उसका लेख झादि से अंत तक आक्षक बना रहे । निबंध का झंत या उपसंहार पाठक के मस्तिष्क पर स्पाथी छाप छोड़ता है । इसके भी अतेक ढंग हो सकते हैं। हम यहां कोई सियस नहीं बना सकते । कु लोग किसी लोकोकि, पथ या उद्घरण में पने लेख का अवसान करते हैं; कुछ लोग सामयिक . लेखों का अंत एक उत्साहवधक ाशाबाद में करते हू । भावा- त्मक निबंघों का अंत तो कल्पना या रंग में होना ही चाहिए । इमारे कुछ लेखों का अंत इस प्रकार हुआ है (१) अनुभव के बिना हम यह सोच ही नहीं पाते कि यह संसार प्रेम करने का--मित्रता ज ढड्ने का-स्थल नहीं; यहाँ दो




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now