सिद्ध वनौषधि चिकित्सा | Sidh Vanoshdhi Chikitsa

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी : ,
शेयर जरूर करें
Sidh Vanoshdhi Chikitsa by रामगोपाल पटेल - Ramgopal Pate

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

रामगोपाल पटेल - Ramgopal Pate के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
.... लक्षण जानवर छुस्त होता दे । झुण्ड के सच जानवसें से अलग खड़ा पता है | चलते हुए जानवर्रों में सबसे पछि रूंगड़ात्ता हुआ चलता दिखाई देता दे | चारों पेशी से जहीं लंगड़ाता है वहाँ सूजन दिखाई देती है। सूजन को दबाने से चर चर आवाज़ आती है । जानवर ज्दी ब्वास लेता है तेज ज्वर मी होतां है । जानवर दौत पीठता मं | व्मक्सर २४ घण्ट म जानवर मर जाता इलाज १. कांस के फूल २० तोला पानी ८० तोला कांस के फूलों को चारीक पीस पानीमें मिला सेगी जानवर को पिलाना चाहिए । इस प्रकार इसी मात्रा में दिन में ३०४ बार पिलाना | २ तेन्दू फल एक पूरा फल हलदी ५ तोला सत्यानाशी ५ तोला छाछ १२० तोल आपामार्ग संगा अतिझाड़ा ५ तोला इन सच को बारीक पीस दिन में तीन बार पिछाना चाहिए | खान-पान जानवर को इलकी पतली भीर पोषक खुराक देना चाहिए | मुलायम घास एवं चौंवल का माण्ड आदि खाने में देना चाहिए संगी को अन्य जानवरों से बिल्कुल अलग रम्वना चाहिए | गलघोटटू कारण--यद एक रक्त-विकार की बीमारी है । नौजवान इ रंग अधिक होता दे । जो जानवर नदी नालों की तराइयों में हुई सड़ी गली घास खा जाते हैं उनहों यदद रोग जल्दी दोता दे | / यु र्मे पे




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :