श्री उध्दव सन्देश: | Shri Uddhav Sandesh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : श्री उध्दव सन्देश: - Shri Uddhav Sandesh

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्री मद्रूप गोस्वामी Sri Madrup Goswami

Add Infomation AboutSri Madrup Goswami

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
१० उद्धवसन्देश सपरूप उसके मुख से पिता नन्द को छुड़ाकर गोपियों को ्ञानन्दि किया था ॥६४? 0८0 मूयोमिस्त्व॑ किले कुवलयापीड़दन्ताबघातें ग एतां निम्नोस्नतपरिसरां स्यन्दने बत्त मान मुश्वोतज्ञां मिहिरदुहितु धीर तीरास्तथ्रूमिं मन्दोक्रान्तां न खल पदबीं साधब शीलयन्ति 112४ दीका--दे धीर 1 रथे वत्त सानस्त्वं उत्तड्ों यमुनातीरान्तभ्मि मुख यवस्तां यूमिं कुचलयापीड़ दन्वावघाले निम्नोननतपरिसरों यत्त साधवों जना समन्द्ण दोपेणाश्यान्ता पदर्वी न शीलयन्ति 1६४ नु०-दे धीर रथ में बैठ हुए तुस कुबलयापीड नामक हाथी के दांती के आघात से ऊँ चीननीचीं यमुना की तीरभूमि को छोड़ देना । क्यों कि साघुजन मन्दजनों से आक्रान्त मार्ग का परित्याग कर देते हैं १५ मजा 0८% मुन्चासब्ये बिदगरुचिरं किड्चिद्स्मादुद्ब्चें राजत्तोरं नरसुमनसा राजिमिस्तीथराजम | _ थत्रापूर्व किंमपि कलयाव्चक्रतुमत्प्रभावादू _ आाभीराणां कुलमपि तथा गान्दिनीनन्द्नोइपि 1? ६1 रॉका-दसबच्ये दृष्तिये झस्माद स्थल्ात उद्ऊचं उत्तरदिग्वर्सिसं शंकर घाठ इति प्रसिद्ध तीथराजं सुब्च यत्र तीथराजे वरुराोकिं मदेश्वर्य 1 सॉबामिलापचतामासीरायां कुर्त एुरब यास्दिमीनस्ट्नो &पि मधरा ममवसमयत्रे मत्मसावातू किमपि कलयों चक्रतुः 1? ६1




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now