भारतीय दर्शन | Bhartiya Darshan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Bhartiya Darshan by डॉ० नन्द किशोर देवराज - Dr. Nand kishor devraj

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about डॉ० नन्द किशोर देवराज - Dr. Nand kishor devraj

Add Infomation AboutDr. Nand kishor devraj

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
20 विचारक पाइ्चात्य शोधी विद्वानों और चिन्तकों का प्रभाव-- युरोपीय' पुनर्जागृति : भारतीय पुनर्जागरण से तुलना । (ख) भाधुनिक भारतीय दर्दान : प्रमुख विचारक डॉ० भगवानदास--आधुनिक भारतीय विचारकों की. सामान्य प्रवृत्तियाँ । अन्य दिक्षक और विचारक (श्री प्रमोद कुमार कोयल) थी रासकुष्ण परमहंस--स्वासी विवकानंद--अद्वैत वेदांत की वैज्ञानिक न्याख्या--कर्म के लिये आह्वान। बाल गंगाघर तिलक--तिलक की गीता व्याख्या--कर्मयोग के विभिन्‍न अर्थ--कर्मयोग और मोक्ष-- कर्मयोग की विशिष्टता रवोन्द्र नाथ ठाकुर : सामान्य परिचय, तत्व मीमांसा, मानवतावाद, .. नीति. मीमांसा, स्वतन्त्रता का मत्यय |. महात्मा गाँधी : सामान्य परिचय, तत्त्व मीमांसा, नीति मीमांसा, सत्याग्रह, अहिसा, साध्य और साधन, नैतिक प्रगति में व्यक्ति का स्थान, वर्ण व्यवस्था, श्रम की. प्रतिष्ठा, समाज की. भादर्श आधिक व्यवस्था, शिक्षा । श्रो अरविन्द : सामान्य परिचय--ज्ञान मीमांसा--तत्त्व मीमांसा--असीम का तर्क--परम मत्ता--सत्ता के सात केन्द्र-विकास का सिद्धान्त--पाश्चात्य विकास- सिद्धान्तों की समीक्षा । कृष्णचन्द् भट्टाचायें : सामान्य परिचय-- भनिर्चित निरपेक्ष (एन्सोल्यूट इनुडेफिनिट)--तर्कशास्त्र में अनिश्चित का महत्त्त--चेतना के चार स्तर--विज्ञान एवं. दर्शन--दर्इन का कार्यक्षेत्र । सबंपल्ली सबाहृष्णनू : सामान्य परिचय--जीवात्मा, ईश्वर एवं ब्रह्म--अन्तःप्रज्ञा । मृहम्मद इकबाल : सामान्य परिचय--- मानवतावाद । लेखक-परिचय उपयोगी सन्दभं-प्रन्थ नामानुक्र मणिका विश्लेषणात्मक विषयानुक्रमणिका 761-762 763-769 1-73 774-782




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now