हरिश्चन्द्र तारा | Harishchandra Tara

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : हरिश्चन्द्र तारा  - Harishchandra Tara

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
| राजा का मोह दरिश्वन्द्र अवश्य ऐसे वँघ गये; कि उन्हें बिना तारा के; सारा संसार सूना दिखाई देने लगा । तारा; उनकी आऑखा का तारा वन गई और थिना तारा के उन्हे एक घड़ी भी कटनी मुश्किल जान पड़ने लगी । इस समय, महाराजा-हरिश्वन्द्र; केवल खी-सुख को ही सुख मान वेंठे । उठते-बैठते, खाते-पीते; उन्हे तारा ही तारा की घुन लगी रहती । देश और राज्य में क्या होता है; कमेंचारी- गण प्रजा के साथ केसा व्यवहार करते हैं, प्रजा सुखी है या दुखी; आदि वातों की उन्हें किचित भी चिन्ता न रही । राजा, जब स्वयं प्रजा की ओर से उदासीन होकर विलास में डून जाता है, तव प्रजा और देश की क्या दशा होती है, इसके इतिहास में अनेकों प्रमाण मौजूद हैं | यहाँ पर भारत-सम्राटू प्रथ्वीराज चौहान ओर महाराणा उदयसिह का नाम ले लेना ही पयोप्त हे । दृरिश्न्द्र के विलासी वन जाने और राज्यकाय न देखने से भी यही दशा होने लगी । प्रजा का धन शोषण करके; क्मचारीगण अपना हित-साधन करने लगे और प्रजा के सुख- दुख की चिन्ता करनेवाला कोई न रहा । महाराजा हरिश्रन्द्र, जैसे-जेसे विलास-मग्न होते जाते, वैसे ही वेसे उनकी कान्ति; सुन्दरता, वीरता; धीरता, वुद्धि, बल, आदि का भी नाश होता जाता था । किसी कवि ने कहा हे”-- ' कुरख् मातन्न पतत्न भुन्ठ सीना! हताः पश्चमिरेव पंच 1 एकः प्रमार्दी सकथ न हन्यते यः सेवते परचमिरेव पंच ॥ वर्थात--दरिण श्रवण के विपय-सुख से; हाथी उपस्पेन्द्रिय के विपय-सुख से, पतड्ड नेत्र के विपय-सुख से, भोरा नाक के




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now