आश्चर्य - घटना | Aashchrya Ghatana

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Aashchrya Ghatana by रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravindranath Thakur

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about रवीन्द्रनाथ टैगोर - Ravindranath Tagore

Add Infomation AboutRAVINDRANATH TAGORE

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
तीसरा परिच्छेद १ 0 सकता ? विवाह के समय मन्त्र द्वारा जो सम्बन्ध जोड़ा जाता है उसकी अपेक्षा कहीं बढ़कर सम्बन्ध मेंने इसकी साँस पलटाकर इसके साथ जोड़ लिया है । मन्त्र पढ़कर इसके साथ एक कत्रिम सम्बन्ध जोड़ना होता, किन्तु देव की अनु- कूलता से जो सम्बन्ध यहाँ जुड़ा हे बह अकत्रिम है । कुछ देर में वधू चैतन्य होकर उठ बैठी। उसने ढीले कपड़े सँभालकर मुँह पर घूघट डाला । रमेश ने पूछा--तुम्हें कुछ मालूम है; तुम्हारी नाव और तुम्हारे साथ की खियाँ कहाँ गई' !? उसने सिर हिलाकर जताया--नहीं । रमेश ने कहा--तुम कुछ देर तक यहाँ अकेली बैठ सको तो मैं एक बार घूमकर उन सबकी खोज करूँ । बालिका ने इसका कुछ उत्तर न दिया। किन्तु उसका सारा शरीर संकुचित होकर मानो बोल उठा--मुझे यहाँ अकेली मत छोड़ जाना | ः वधू के मन के भाव को रमेश समभ गया। खड़े होकर : उसने बड़े ध्यान से एक बार चारों ओर देखा, पर कहीं कुछ नज़र नहीं झाया । तब वह खूब ज़ोर से चिल्लाकर, आत्मीय जनों का नाम ले-लेकर, पुकारने लगा। पर कहीं किसी की कुछ टोह* न सिली । आखिर वह हताश होकर बैठ गया | देखा, वधू दोनों हाथों से मुँह बन्द कर रोने की आवाज़ को रोकना चाहती हैं। इससे उसका दम रह-रहकर फूल उठता है और उसके मुँह से रोने की धीमी आवाज़ निकल पड़ती है ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now