विश्विव के चित्र इंसान | Vishv Ke Vichitar Inshan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Vishv Ke Vichitar Inshan by ए. एच. हाशमी - A. H. Hashami

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about ए. एच. हाशमी - A. H. Hashami

Add Infomation AboutA. H. Hashami

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
” हो गया था। वह अपने माता-पिता से कही अधिक लम्बा था। उसका भाई आर दो बहने सामान्य कद क थे। शुरू में उसकी बहने उसकी उगली थामकर उसक॑ साथ चलती थी, परत अब उसका हाथ छूना भी उनके लिए असम्भव था। 16 चप की उम्र में रावट का कद 238 75 सेमी (7 10”) ओर वजन 272 किग्रा के लगभग था। अमरीका म कोइ एसा व्यक्ति न था, जो उससे कद म मुकाबला कर सकता। 18 वर्ष आर 252 73 सभी (8 30”) कद! यह दीर्घकाय नवयुवक अब अपने करियर की चिन्ता म था। जब वह 193 म कॉलेज में दाखिल हुआ तो उसे वकील बनने का विचार सुया। शायद वह दनिया का सर्वाधिक लम्बे कद का वकील बनन वाला था। उस अपने बड कद क॑ कारण कई कठिनाइयों का सामना करना पडा। कक्षा म नाट्स लिखने के लिए वह अन्य विद्याथिया के साथ न चल सकता था। बडे से बडे साइज का कलम भी उसके लिए एक तिनके के बराबर हाता। जीव विज्ञान की प्रयोगशाला मे छोटे-छोटे नाजुक उपकरण इस्तमाल करना उसके लिए असम्भव था। 1937 म रिगलिंग ब्रदस ने उससे न्यूयॉर्क आर वास्टन मे सकस शा म भाग लने के लिए प्राथना वी, जिसे उसने स्वीकार कर लिया। परत उसने सकस वी पोशाक न पहन कर सा धारण सूट पहनने ओर दिन में केवल दा वार स्टेज पर जान दी शर्तें स्वीकार की। व उस समय 19 वप की उम्र म उसका कद 257 81 सेमी (8 50”) वा। 1940 में वह 22 वप का था। तव उसका कद 272 03 सभी (8 11 1 ) ओर वजन 199 13 किग्रा था। 6 जुलाई की सध्या का वह मिशिगन के एक मेले म भाज पर आमंत्रित था। भोजन के दौरान उसके पिता न॑ दंखा कि वह कछ भी खा-पी नहीं रहा हे। पूछने पर उसने बताया कि उसकी तबियत ठीक नहीं हं। मले स फारिग हांन पर डावटर को बुलाया गया। दीघकाय नवयवक बुयार से ग्रस्त था। उसका टखना वुरी तरह प्रभावित हा गया था आर टयन का जख्म नासूर बन गया था। डाक्टर न उसे अस्पताल में दायिल करने की सलाह दी परतु वह डाक्टर वी सलाह न माना। फलस्वरूप उसकी हालत बिगडती गइ ओर दद बढ़ता ही गया। उसक माता-पिता दिन भर उसक दुप मे साथ-साथ रहते, परत दद॑ स उस मुषित न मिल सकी। अत मे 15 जुलाइ 1940 को प्रात उसकी मत्यु हो गईं। रॉबर्ट क॑ शव का उसके गाव एल्टन ले जाया गया। उसकी अंतिम यात्रा के दश्य को देखने के लिए वहुत लोग एकत्र हुए। उसे दफनाने क॑ लिए एक विशेष आकार का तावत बनवाया गया। रॉबट वेडला ने चाल्स बायर्न आर जान हण्टर के बार में पढ़ा था। अत उसने अपने शव को जान हण्टर क हाथा से बचाने के लिए एक मजबूत लोहं का तावूत बनाने की वसीयत की थी। उसकी यह वसीयत परी भी की गई। ता परत पद, हि. टू मानशा ये 1« 2-2 हु हि. न टीए. नह




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now