सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय भाग 16 | Sampurna Gandhi Vaangmay Vol-16

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Sampurna Gandhi Vaangmay Vol-16 by महात्मा गाँधी - Mahatma Gandhi

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

महात्मा गाँधी - Mahatma Gandhi के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
पाठकोंको सूचनाहिन्दीकी जो सामग्री हमें गांघीजीके स्वाक्षरोंमें मिली है उसे अविकलरूपमें दिया. गया है। किन्तु दूसरों द्वारा सम्पादित उनके भापण अधवा लेख भापिमें हिस्जोंकी स्पप्ट भूलोंको सुधारकर दिया गया है।मंग्रेजी, युजराती बौर मराठीसे अनुवाद करते समय उसे मूलके समीप 'रखनेका पुरा प्रयत्न किया गया है, किन्तु साथ ही भाषाको सुपादूय बनासेका भी पूरा ध्यान रखा गया है। जो अनुवाद प्राप्त हो सके हूं, हमने उनका मूलसे मिलाने और संशोधन करनेके वाद उपयोग किया है। छापेकी स्पप्ट भूलें सुघारनेके वाद अनुवाद किया गया है और मूलमें प्रयुक्त भव्दोंके संक्षिप्त रुप ययासम्भव पूरे करके दिये गये हूें। यह ध्यान रखा गया है कि नामोंकों सामान्यतः: जैचा बोला जाता है वैसा ही लिखा जाये। जिन नामोंके उच्चारणोंमें संगय था उनको वत्ता हो लिखा गया है जैसा गाधीजीने अपने गुजराती लेखोंमें लिया है।मूल सामग्रीके वीच चौकोर कोप्ठकोंमें दी गई सामग्री सम्पादकीय है। गांधीजी ने किसी लेख, भापएण आदिहा जो अंधे मूल रुपमें उद्धृत किया है, वह हाथिया छोड़कर गहरी स्थाहीमें छापा गया है। भापणोंकी परोक्ष रिपोर्ट तथा वे दाव्द जो गांघीजीके कहे हुए नहीं है, थिना हाशिया छोड़ें गहरी स्पाद्टीमें छापे गये हूं।शीर्पककी लेसन-तिथयि जहाँ उपलब्ध है, वहां दायें कोने में ऊपर दे दी गई है; जहाँ वह उपलब्ध नहीं है वहां उसकी पति अनुमानने चौकोर कोप्ठकोंमें की गई है और मावय्यक होनेपर उसका कारण स्पप्ट कर दिया गया है। जिन हिन्दी और गुजरातीके व्यप्तिगत पत्रोंमें गुजराती संवतके अनुसार तिथि दी गई थी उनमें ईसवी सनुके ननुरूप तिथि भी दे दी गई है। झफुछ पत्नोंकी ठेखन तिथिका निर्णय वाह या आन्त- रिका साक्ष्यके आवार्पर किया गया है। जिन पत्नोंमें केवल मास या वर्षका उल्लेख है उन्हें आवश्यकतानुसार मास या वर्पके अन्तमें रखा गया है। शीर्पकके अन्तमें सुत्रके साथ दी गई तिथि प्रकाणनकी है।' सत्यना प्रयोगो अथवा आत्मकथा के अनेक संस्करण होनेसे उनकी पृष्ठ संख्याएँ विभिन्न हैं; इसलिए हवाला देनेमें केवल उसके भाग और अध्यायका ही उल्लेख किया गया है।साधन-सुर्ोंमें ' एस० एन०' संकेत सावरमती संग्रहालय, अहमदावादमें उपलब्ध सामग्रीका, ' जी० एन०' गांधी स्मारक निधि आर संग्रहालय, नई दिल्‍लीमें उपलब्ध कागज-पत्रोंका भौर ' सी ० दब्ल्यू० ' क्लेक्टेड बर्क्स आफ महात्मा गांधी (सम्पूर्ण गांधी नाइमय) हारा संगृहीत पत्रोंका सुचक है।सामग्रीकी पृष्ठभूमिका परिचय देनेके लिए मूलसे सम्बद्ध कुछ परिद्िष्ट दिये गये हूं। अन्तमें साथन-सु्रोंकी सूची भर इस खण्डसे सम्बन्धित कालकी तारीखवार घटनाएँ दी गई दू।




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!