धर्म्मपद | Dharmmpad

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Dharmmpad  by रामचन्द्र रघुनाथ - Ramchandra Raghunath

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

रामचन्द्र रघुनाथ - Ramchandra Raghunath के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
( 8 )ने अनेक प्रकार के दान-धर्म्म किए | ' वाठक का नाम सिद्धार्थ रक्खा गया | रानी मायावती की बीमारी दिन प्रति दिन बढ़ती गई और भन्तमें उसी में उसका शरीर छूट गया । ' मायादेवीकी खत्यु के पश्चात्‌ खिट्टाथ की सौतेली माता महाप्रजापति अथवा गौतमी उसका पालन-पोपण करने लगी । उस वालक पर राजा अपने प्राणोंसे भी अधिक प्रेम कंरने छगे। वह लड़का अब दिन प्रति दिन बढ़ता गया । उपनयन-विधि आदि हो युकने पर राजाने गौतमकों विश्वामित्र नामक एक बिद्वान ब्राह्मणके यहाँ घिद्योपाज॑न करने के लिये भेजा । गौतम इतने बुद्धिमान, थे कि गुरुका वत्तछाया पांठ उन्हें उसी समय कण्ठ हो जाया करता था । वे चड़े विचारशील थे । इसलिये गुरुजी जो कुछ बतढाते थे, उसे वे उसी समय समभ जाया करते थे । अपने सहपाठियों से वे सर्वदा प्रेमपूर्वक वर्ताच क्या करते थे। जब वे. किसी को विपत्ति में देखते, ती पहले उसकी सहायता किया करते थे । वे अपने गुरु तथा अपनी गुरु-पल्ली के का्ोंको बड़ी सहाजुभूति के साथ करते थे । इन गुर्णों से आप सबको प्रिय हो ग़ये थे । मैं राजपुत्र, श्रोमान, सत्ताघारी और सबसे श्रेष्ठ हूं ; इस आहं- भाव से प्रेरित होकर उन्होंने कभी भी अपने अभ्यास की ओर दुर्लश्ष नहीं किया भर,न किसी का मान-खण्डन किया । शुरुके घर अपने पुत्र का आचरण देखने के लिए एक बार राजा शुद्धो- घन और रानी प्रज्ञापति' स्वयं गये थे। वहाँ अपने 'पुत्र का आचरण देखकर उन्हें वड़ी प्रसन्नता हुई। गुरु के घर चिद्या




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :