निशीथ एक अध्ययन | Nishidh ek Adhyan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Nishidh ek Adhyan by हीरालाल कापडिया - Hiralal Kapdiya

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

हीरालाल कापडिया - Hiralal Kapdiya के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
निधीध सुत्र झंग या घ्ंगवाद्य £ 1-2निशीध स्रू्र झंग या अंगवाद्य ?,.... समग्र ग्रागम ग्रन्यों का प्राचीन वर्गीकरण है-नश्रंग घोर झंगदास्य । नियीय सूद से नाम से जो ग्रन्थ हमारे समल है, उसे श्राचारांग की पांचवीं चूदा* कहां गया हैं पर पम्ययन की टृष्टि से वह झ्ाचारांग का छ्वीसर्वा श्रध्ययन घोषित किया गया है । इस परसे स्पष्ट है कि वह कभी श्रंगान्तगंत रहा है । किन्तु एक समय ऐसा श्ाय कि उपभदध पासाराग सुत्र से इस भ्रघ्ययन को प्रथक्‌ू कर दिया गया; श्रौर इसका छेद सु्ों में परिग दी जाने लगा । तदनुसार यह निशीथ सूत्र, यंग ग्रन्यथ-धाचारांग को सं सोसे हे सार झंगान्तगंत होते हुए भी,ग्रंग वाह हो गया है ।चस्तुत: देखा जाए तो भंग श्रौर श्रंगयाहा जैसा विभाग उत्तरकादीन पम्प मे नं! होता है, किन्तु श्रंग, उपांग, छेद, सरल, प्रकीर्णक श्रौर चूलिका--इस स्प में घायस पन्पों या विभाग होता है । श्रौर तदनुसार नियीथ छेद में संमिलित किया जाता है ।एक वात की श्रोर यहाँ चिघोप ध्यान देवा श्रावश्यक है कि सययं शाचारांग से था 'निकीथ' एक भ्रंतिम चूला रूप है । इसका श्र्थ यह है वि वह फभीन्त-ामी सूप स्लासस है जोड़ा गया था । श्रौर विद्योप कारण उपस्थित होने पर उसे पुनः ग्ालासंग से प्गू गरे दिया गया ।उपयुक्त विवेचन पर से यह कहा जा सकता है कि नियीस सौतिक सूप से दावा सगे हा बसे था ही नहीं, घिन्तु उसका एक परिधिष्ट माग्र था । दस हृष्टि से छेद में, जो लि पंगियरय या श्रंगेतर वर्ग था, निशोथ को संमिलित करने में कोर्ट घापत्ति नहीं हो सकती पो |्रंगवर्ग के थ्रस्तगंत न होने मात्र से निधीय का महत्व यन्य संग यो से मुह उसे हो गया है--यह तात्पयं नहीं है; वयोंकि निधीय व ग्रपना जो सहत्त्य दूं. वही सो इसे पंप हे श्रन्तर्गत करने में कारण है । निशीध को श्राचारांग का झंग केवस इ्देनास्यर 'परनाय मे माना जाता है, यह भी ध्यान देने की वात है । दिगग्चर प्राम्नाय सें नि्ीय लत संगदारय सर्प हो माना गया है । शरंगों में उसका स्थान नहीं है । वस्तुतः श्रंग की ददारसा सार नियोग पर चाहा ही होना चाहिए । व्यांकि वह गणधरकृत नो है नहीं । स्पदिर याकद नध# नपृनस गप्छु४ थी खरा य सपय उ हे उपर ये हिनिवय द टन १है । ग्रतएव जंसा कि दिगम्वर ग्राम्नाय में उसे केवल पंगदाह्य पहा गया हे. पस्युक: श्रंगवाह्य ही होना चाहिए । शरीर *सवेताम्वरों के यहां भी घंतवोसत्वा ऐद पगें थे पसंद दर वह स्रपने ठीक स्थान पर पहुंच गया है ।१, नि० पृ० २पर. चही पू० *दे. ऐशदयग में घन्तर्गत होने पर भी भाप्यश्र घोर सूश्यिगर सो उस पं पगोग के मादा!रहे-देखो, निस गात ६१६८ पीर उसदा सपान ता सिधोए पूि हुए यार धिग शाग न दि दे 6 पृ० इन .प कु हू४, देखी, पट सप्टागम साग २ पूल ६६, तपा ससायपापुर भाग ( पुर से




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :