फुलवाडी | Phulbari

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Phulbari by मोहनलाल - Mohanlalरवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravindranath Thakur

एक विचार :

एक विचार :

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

मोहनलाल - Mohanlal

मोहनलाल - Mohanlal के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravindranath Thakur

रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravindranath Thakur के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
फुलवाड़ीपानी ।. तृषितजन पोकर कहते: “कैसा मीठा पानी है !--उत्तर में सुन पाते : हमारे ही बागीचे के नारियल का पानी है' ।--इसपर सभी कहते : “ओहो, तभी तो हम कह रहे थे कि आखिर क्यों इतना मीठा है !'आज इस भोरवेला में पेड़ों-तले दाजिलिग-चाय की वाष्प के साथ बसी हुई नाना ऋतुओं की गंघ-स्मति दीघेनिश्वास से मिलकर नीरजा के मन में हाय-हाय करती है। खुनहले रंगों से रंगीन अपने उन्हीं दिनों को घह जाने-किख दस्यु के हाथ से छीनकर चापस लौटा लाना चाहतों है । चिद्रोही मन क्यों किसोको अपने सामने नहीं पाता ? भलेमाजुसों की तरह सिर भऋकाकर भाग्य को स्वोकार कर लेनेवाली लड़की तो वह है नहीं । फिर इसके लिये ज़िम्मेदार कोन है? कस घिश्चव्यापी बच्चे का यह लड़कपन है ! किस विराट् पागल थी यह छृति है ! ऐसी परिपूण सष्टि में इस तरह निरथक भाव से उलट-पलट किया तो किसने !चिवाह के बाद उनके जीवन के दस पं लगात्यर अधिमिश्र सुख में बीते थे। मन-हो-मन इसे लेकर सखियों ने उससे ईपष्यां की थी ; सोचा था, नीरजा नेपथ




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :