पद्य - प्रभा | Padya - Parbha

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Padya - Parbha by हरिशंकर शर्मा - Harishankar Sharma

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about हरिशंकर शर्मा - Harishankar Sharma

Add Infomation AboutHarishankar Sharma

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
सूरदास श्र कद वद्द ताल कहां बह सोभा देखत थूरि उड़े हैं। माइ दंघु अर कुटुम कबीला सुमिरि सुमिरि पछ्चिते हैं ॥ बिन गोपाल कोउ नदिं 'अपनो जस अपजस रदि जे हैं । जो 'सूरज' इुलेभ देवन को सतसंगवि में पे हैं ॥ ६॥ ( चिलावल ) ऊधो मन माने की बात । * दाख छोद्दारा छाँढ़ि अस्त फल विपकीरा विष स्वात। जो चकोर को देइ कपूर कोइ तजि झंगार अघात | मघुप करत घर कोरे काठ में बेंघत कमल के पाव ॥ ज्यों पतंग दित जानि ापनों दीपक सों लपिटात 1 'सूरदास' जा कौ मन जासों सोई तवाहि सुद्दात ॥ १० ॥ ( सैरवी ) कहाँ लो कह्टिये जज की घात । [सुन स्थाम हुम विन उन लोगनि जैसे दिवस. बिहात ॥ 'गोपी सवाल गाइ ,गोसुत वे मलिन -बदन कस ग्रात । परम दीन जनु सिसिर हिसीदत 'अंबुजगन बिन पात ॥ [जो कहूँ 'आावत देखि दूरतें सब पूँछति झुसलात ॥ 'लन न देत प्रेम थातुर उर कर. 'चरनस लपटात ॥ पिक चातक बन बसन न पावदि, बायस बघलिहिं न खाद । *. सूरस्याम संदेसन के डर, पथिक न उद्दि मग जात ॥१३॥




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now