सत्य धर्म्म विचार | Satya Dharmm Vichar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Satya Dharmm Vichar by स्वामी दयानन्द सरस्वती - Swami Dayananda Saraswati
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
2 MB
कुल पृष्ठ :
54
श्रेणी :

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

स्वामी दयानन्द सरस्वती - Swami Dayananda Saraswati के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
सत्यघमत्रिचार ॥ (१३)काश में चने रहसे है श्र उन परमाणुओं में जो संयोग भौर वियोग ऋ की शक्ति व + १ च चर ५, ढे दूं तो वद्द सदा नम रदते हु ॥ जसा सट्टी रो घड़ा बनाया जो ।के बनाने के पानहीं था '्लौर नाश होने के पथ्चात्‌ भी नहीं रहेगा, परन्तु उस में जो मढ्टी दे वह नष्टअल कक,नहीं होती शोर जो गण अथोत्‌ चिक्नापन चसमें हे ।कि जिस से वह पिण्डाकार होता हे वह भी सट्टी मे सदा से हे, बेसे दो संयोग और वियोग हो ने की यो ग्यत्ता परमाणुओंरैमें सदा से दै इस से यह समझना चाहिये कि उन परमाणु द्रव्यों से यह जगतू घना के. ५ # भा हज कर थ _ च ९दे, वे द्रव्य भनादि ४, काय्य द्रव्य नहीं 'झौर मेंने यदद कब कहा था कि जगत्‌ के पदार्थ स्वयं अपने को बना सकते हैं, मेरा कद्दना तो यह था कि ईश्वर ने चस कारण से१९ च्पैद जगत को रा है ॥।रा५ #५ 4 जद ११९,च्पे ह छू सब छोग देखते हैं कि अग्नि में बहुतसे पदाथे जठजाते हें भब विचार क-रना चाहिये कि जब कोई पदाथे जलजाता हे तो क्‍या हो जाता है | देखने सें आता०, र ९ #+ 3 _*+०दे कि लकड़ी जछ कर थोड़ीसी राख रदती हे तो अब यदद विचारना चादिये (के जछने से चह्द पदार्थ ही नष्ट दो जाता दे वा उसका स्वरूप दी बदल जाता दे, जब मोमबत्ती जछाते हैं तो देखने मे चद्द मोम नहीं रदता, यह नद्दीं जान पडता [कि कहां गया परन्त सस सोस का स्त्रूप बदुढ कर वायु के सदददा दो जाता दे ओर इसी कारण चायु में मिछ जाने.से दृष्टि में नट्टीं आना ॥।इस की परीक्ष। के लिये एक बोतल के भीतर सोमबत्ती जछाश्ों भौर उस का मख बंद कर दो तो उस बत्ती का जितना भाग वायु के सद्झ दो जावेगा वह्द घोतल से चाहदर नद्दीं जा स्रक्रेग। पर थोडी देर के पीछे यह दिखलाई देग। कि वद्द बत्ती चुझ गईं ||अब यदद सोचना 'चाहिय कि बत्ती क्यों जुझ गई ! श्यौर बोतल के वायु में अब कुछ मद हुआ वा नहीं १ ।इस बात की परीक्षा इस प्रकार होगी कि थोड़ासा चूने का पानी उस बोतल में भौर एक भौर बोतल में कि जिसमें केवल वायु भरा हुआ हो 'श्रौर उसमें को ई बत्ती न जी दो डाछो, तो यद्द दिखलाई देगा कि जिस बातिठ में बत्ती जली है उसमें च्चूने का रंग दूं सा हो जावेगा और दूसरा बोतछ का जेसे का तैसा रदेगा, इस से सिद्ध हुष्मा ककि बत्ती के जलाने से कोई नई वस्तु बोतल के वायु में सिछ गई दे | वह एक चस्तु चायु के सह है कि जो दृष्टि में नहीं आता अब देखना चाहिये कि मोसबत्ती का कोई परमाणु नष्ट नह्दीं होता पर जिन पदार्थों से चह्द बत्ती बनी दे उत का स्वरूप पिन्न हो जाता है ॥




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :