सरल सामायिक पाठ संग्रह | Saral Samayick Path Sangarah

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Saral Samayick Path Sangarah by श्री कृष्णदास जी - Shree Krishndas Jee

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

श्री कृष्णदास जी - Shree Krishndas Jee के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
[ शेर जन इस पुस्तक से लाभ उठा ऋर हमारे परिश्रम की सफल करेंगे ।सामायिको परयोर्ग। समय, स्थान, झासन,समय-?व आचार्यो ने त्रिकाल (प्रातः मध्याह्म आर सायम्‌ कालीन ) सामायिक करने का उपदेश दिया हैं इनमें भी प्रातः कालीन सामायिक को बहुत विशेषता दी है क्यों कि यह समय पूर्ण शांत तथा निस्तव्ध रहता हैं । पूव दिन की थकावट भी पूणरूप से नहीं रहने पाती, दिमाग़ ताज़ा व स्वस्थ रहता है अतः इन तमाम बातों को देखते हुए स्रमाथिक के लिये मंगल




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!