महाराणा का महत्त्व | Maharana Ka Mahattv

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Maharana Ka Mahattv by जयशंकर प्रसाद - jayshankar prasad
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
597 KB
कुल पृष्ठ :
34
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

जयशंकर प्रसाद - jayshankar prasad के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
सहाराणा का सदच्वध्यान कीजिये; वह वनिता है शत्रु की । दिल्‍लीपति का सेवप हो छाया यहाँ जो रददीमखों कवर का चिर-सित्र है उसकी ही. परिणीता है यह सुदरी इसका चन्दी रहना नेतिक दृष्टि से + ठीक नदी कया ? जब तक ये सब शांत हो ।कह तमक कर तब प्रताप ने--''क्या कहा चनुचित वल से लेना काम सुकम्म है ! इस अवला के बल से होगे. सबल क्या? रण में टूटे ठाल तुस्हारी जो कभी तो बचने के लिये शत्लु के. सामने पीठ करोगे ? नहीं; कसी ऐसा नही; दृद-प्रतिज्ञ यह इृदव; तुम्हारों ढाल बन तुम्हे बचावेगा । इसपर भी ध्यान दो घोर अंधेरे मे उठती जब लहर हो तुमुल॒घात-ग्रतिघात पवन का हो रद भीसकाय जलराशि क्षुब्घ हो सासने कर्णघार-रक्षित दृदू-रदय सुननाव को




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :