प्रजामिल समुद्धार लीला | Prajamil Samuddhar Leela

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : प्रजामिल समुद्धार लीला  - Prajamil Samuddhar Leela

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
३९ . खादी खुबके से चही को ईभी दिख दुनिया मैं हसा मुख कोई नहीं जिस केरूगा रचार्‌नही' (है ज में यार के देखा जो तय नें में मज़ा, 1 शेश का उस के सुका वि मत बगारनुद्ी। बस में नयाता है ठह नव तसे नो हिलिवरमुथुरेश रे शो: दरचेश को ई सेसा चफ़। दारंतने ही (इस गंज रत का हरएक शेरसुन कंर्‌ रसि क - उाउ चाह कहता जाता है ॥.पीछे जब गा - ना हो चुका-तौ कहा कि एके बार्‌ इसको,जगा न से वैसे ही-सुना दो तब,दरिले बरसे उस को थी का रे कर सुनाया) ं यम रातिक'० बाद वाह :संरका डे >प्राज न्याप नें गे जेल क्या गई चडी भारी-नेसी हत सुनाई ॥। ' सन्व है रश्क ऐसी ही चीज़ है इसे से मनुष्य भगवान की पहुंच जाय है चिस चच्िए क तरफ -सगजाय हपरन्तअम सेसारी पु जीव नम करेनोडीक नहीं: भगवत कि रुचि, मैं होनी चाहिये जहां तक जन उसी में जीत माय की ०. हो पंडित भी यह तो-स्पाप ने सतव फ्रंरमाया मेरेमी-नि डा ते कि ने .इं्बर में यहिसे हो से, दिज उगना बदन ते डर; म ले जौ




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now