विनिमय सिध्दान्त | Vinimay Siddhant

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Vinimay Siddhant by जे० के० मेहता -J. K. Mehtaप्रेमचंद जैन - Premchand Jain

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

जे० के० मेहता -J. K. Mehta

No Information available about जे० के० मेहता -J. K. Mehta

Add Infomation AboutJ. K. Mehta

प्रेमचंद जैन - Premchand Jain

No Information available about प्रेमचंद जैन - Premchand Jain

Add Infomation AboutPremchand Jain

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
अंकरण २ वस्तु-विनिमय ओर विनिमय अनुपात प्रश्न ५--वस्तु-विनिमय की परिभाषा करो; ओर यह स्पष्ट करो कि सब आर्थिक व्यवहार बस्तु-विनिमय क्यों है ? उत्तर--वस्तु-विनिमय द्वारा वस्तुओं का अद्ल-बदल होता हे। इसके लिए विनिमय माध्यम डदुव्य की सहायता नहीं लेनी पड़ती । एक वस्तु दूसरी वस्तु से बदली जाती है । किसान जुलादे से गेहूँ के बदले में कपड़ा ले सकता हैं और जुलाहा इस प्रकार प्राप्त किये गये गेहूँ को जूतों से बदल सकता है । परन्तु झाजकल के व्यवहार में वस्तु-विनिमय बहुत कम होता है | वस्तुएं द्रव्य की सहायता से खरीदी श्र बेची जाती हैं । आज के युग में किसान अपनी फसल को सीधा कपड़ों और जूतों से नहीं बदलता । प्रथम चह फसल बेचकर द्रव्य प्राप्त करता है और फिर इस द्रव्य से इच्छालुसार वस्तु खरीदता है; इस प्रकार द्रव्य वस्तुओं के लेन-देन में बहुत सहायक है । परन्तु इतने पर भी द्रव्य केवल विनिमय साध्यम का ही कार्य करता है; अन्तिम रूप सें तो वस्तु का वस्तु से ही बदला होता है । आज भी किसान फसल को जूता कपड़ों अथवा अन्य वस्तुओं से बदलता दे; द्रव्य तो केवल विनिमय साध्यस है । अतएव वस्तु-विनिमय और द्रव्य द्वारा विनिसय में विशेष अन्तर नहीं है । तर केवल इतना ही है कि द्रव्य के कारण विनिमय छ़ुविधाएंवंक श्र तीव्रता से किया जा सकता दै । व्यापार का विकास होता है, और पूंजी संचय में ्ासानी दोती है परन्तु फिर भी द्रव्य की सहायता द्वारा क्रय-विक्रय में बस्तु-विनिमय के गुण रहते हैं। अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार इसका ज्वलंत उदाहरण है । एक राष्ट्र दूसरे राष्ट्र से विनिमय माध्यम द्वारा व्यापार नहीं करता | दीर्घ॑ काल में तो निर्यात ही आयात की झअदायगी करती है । सध्य




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now