प्रतिपाद्य विषय की झांकी | Pratipadya Vishay Ki Jhanki

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : प्रतिपाद्य विषय की झांकी  - Pratipadya Vishay Ki Jhanki

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about मैथिलीशरण गुप्त - Maithili Sharan Gupt

Add Infomation AboutMaithili Sharan Gupt

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
३ गुप्रजी के एक दृखरे काव्य “जयद्रथवधः खी ओर दशि 'पात करें तो उसमें मुख्यतः तीन स्थल ऐसे हैं जो करुण रस के आलम्बन बनाए जा सकते हैँ :- १. अभिमन्यु की वीरगति २. उत्तरा का विाप ३. जयद्रथ काकवध इनमें प्रथमदोका कारण्य तो जीवन का उत्कपे-विधायक है, किन्तु दतीय का नहीं । अतः हमारे कवि ने प्रथम दो प्रसंगो का तो सदानुभूति ओर समवेदनापूणे चित्रण किया हे; किन्तु तीसरे, अर्थात्‌ जयद्रथ वध के प्रसंग को, न केवल भगवान की इच्छा कह कर टाछ ही दिया; श्रस्युत उसे धमराज भीर अजुन ऊ सुख-संमिलनः का प्रष्टाधार भी वनाया । यद है गुप्तजी का आदशंवाद । 'गिरीश' ने ठीक ही छिखा है कि इन्दं “मानवः




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now