तेलुगु वाड्मय विविध विधाएँ | Telugu Wadmay Vividh Vidhaen

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Telugu Wadmay Vividh Vidhaen by बालशौरि रेड्डी - Balshori Reddy

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about बालशौरि रेड्डी - Balshori Reddy

Add Infomation AboutBalshori Reddy

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
तेलुगु भाषा और साहित्य ४85 ''पलिकेडिदि भागवतमट पलिकिचेड्वाड रामभद्रडट ते पलिकिन भवह्र मगुनट पलिकेद वेरंडगाथ पलुकगनेल ।'' अर्थत्‌--' भमै भगवान की सजना कर रहा हू । भगवान रामचन्द्रजी स्वयं मेरे मुँह से बुलवा रहे हैं । इस ग्रन्थ की रचना द्वारा भवसागरसे पार पा सकता हू; अतः मै किसी दूसरे काव्य का प्रणयन क्यो करू !”' पोतना भगवत भक्ति प्रधान काव्य है । इसमें भक्ति और वेदांत संबंधी अनेक आख्यान वणित हैं जिनमे प्रह्लाद चरित, वामन चरित, श्वरद्धार गजेन्द्र मोक्ष, नरकासूर वध, कुचेलोपाख्यान, ध्रू.वोपाख्यान, अंबरीषोपारुयान ओर रुकिसिणी-परिणय विशेष' लोकभिय हैँ। ये आख्यान महाकाव्य की श्यूखला की कड़ियाँ होते हुए भी स्वतंत्र अथवा भिन्न खण्डकाव्यों के रूप में बन पड़े हैं । पोतना की कविता प्रांजल, ललित एवं मधुर है । इस काव्य में चमत्कार बैचित्य और उक्ति वैचित्र्य दृष्टव्य हैं । कवि सावभौम श्रीनाथ इस युग की सबसे बड़ी विभूति थे । तत्कालीन सभी राजदरबारों में जाकर कनकाशिषेक का सौभाग्य प्राप्त किया । इनके वामपाद में गण्डपेण्डेर (स्वर्ण घंटिका) पहनाकर सम्राटों ने अपना अहोभाग्य माना । धन, कनक, वस्तु, वाहन, अग्रहार उपाधियाँ देकर इनका सत्कार किया । थे रेड्डी राजाओं के दरबारी कवि थे और वहाँ शिक्षाधिकारी के पद पर नियुक्त थे । अपने जीवन-काल मे इस महाकवि ने जैसे ऐहिक भोग-विलासों का अनुभव किया, वैसा अन्य कवियों के लिए दुलेंभ था । तेलुगु के मर्मज्ञ विद्वान चिलुकूरि वीर भद्रराव ने एक स्थान पर लिखा है-- “श्रीनाथ का जीवन-चरित्र प्रस्तुत करनेका अभिप्राय है, १५बीं शतीके आन्ध्र देश का इतिहास लिखना ।” इन्होंने एक दजन से अधिक काव्य-ग्रन्थों का सृजन किया है, जिनमें “श्ज्जार नेषधमु', काशी खण्ड, (भीम खण्ड, 'पलनाटि वीर चरित्र, शिवरात्रि महात्म्यमु', हरविलास मख्य है । तेलुगु कविता को प्रौढता प्रदान करने काश्य श्रीनाथ को प्राप्त है । तेलुगु वाङ्मय की विविध शाखाओं को जन्म दिया तथा भाषा, भाव, शैली, छन्द, अलंकार आदि की दृष्टि से भी समृद्ध बनाया । चाटूकितियों के कहने मे भी ये अत्यंत पटु थे । सिरिगलवानिकिं जेल्लुनु' नामक पद्य में कवि ने अपने आराध्य पर अच्छा व्यंग्य कसा है । इसमे उनकी विनोनप्रियता का भी परिचय मिलता है । एक बार कवि पहाड़ी प्रदेश में यात्रा कर रहे थे । उन्हें बड़ी प्यास लगी । आराध्य देव का स्मरण किया--हे परमेश्वर, विष्णु जैसे धनी व्यक्ति चाहे सोलह हजार नारियों के साथ विवाह कर सकते हैं, तुम तो फकीर हो, तुम्हें दो




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now