विश्व-संघ की ओर | Vishwa-Sangh Ki Or

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Vishwa-Sangh Ki Or by भगवानदास केला - Bhagwandas Kelaसुन्दरलाल - Sundarlal

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

भगवानदास केला - Bhagwandas Kela

No Information available about भगवानदास केला - Bhagwandas Kela

Add Infomation AboutBhagwandas Kela
Author Image Avatar

सुन्दरलाल - Sundarlal

भारत के स्वाधीनता आंदोलन के अनेक पक्ष थे। हिंसा और अहिंसा के  साथ कुछ लोग देश तथा विदेश में पत्र-पत्रिकाओं के माध्यम से जन जागरण भी कर रहे थे। अंग्रेज इन सबको अपने लिए खतरनाक मानते थे।

26 सितम्बर, 1886 को खतौली (जिला मुजफ्फरनगर, उ.प्र.) में सुंदरलाल नामक एक तेजस्वी बालक ने जन्म लिया। खतौली में गंगा नहर के किनारे बिजली और सिंचाई विभाग के कर्मचारी रहते हैं। इनके पिता श्री तोताराम श्रीवास्तव उन दिनों वहां उच्च सरकारी पद पर थे। उनके परिवार में प्रायः सभी लोग अच्छी सरकारी नौकरियों में थे।

मुजफ्फरनगर से हाईस्कूल करने के बाद सुंदरलाल जी प्रयाग के प्रसिद्ध म्योर कालिज में पढ़ने गये। वहां क्रांतिकारियो

Read More About Sundarlal




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now