मेरा बचपन | Mera Bachpan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Mera Bachpan by रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravindranath Thakur

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravindranath Thakur के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
भेर वचपतका दिनि घण्टे का दिसाव नहीं मानता! वहीं कां वार्ह यज्ञे चही पुराने ज्ञमान का है, जव राजमवन के सिंहदार पर समा-मंग का डंका यज्ञा करता, राजा चन्दन के जल से स्नान करने उड जति। दुद के दिनि दोपदरी छो मँ जिनकी देय-देय में हूँ, वे सभी खा पी फर सो रहें है। अकेला चैठा हुँ । चलने का रास्ता मेरी ही मंजॉपर निकाला गया है । उसी रास्ते मेरी पाट्की दूर-दूर के देश-देशान्तर को चढी है। उन देशों के नाम मैंने ही अपनी फितावी विद्या के अजुसार गढ़ लिये है। फभी कर्भ सस्ता घने जंगल के भीतर चु जातः रै, ८ चं } याघ षी भसं चमकर्दी है। शरीर सनसना रहा है। साथ में विश्वनाथ शिकारी है। वद उसकी चन्दूक घाँयसे छूटी 1 बस, सब चुप। इसके याद पक चार पाऊकी का चेहरा चदठ गया । घह वन गई मोरप॑ली चजया, वह चली समुद्र में । किनारा दिखाई नहीं देता | डॉड पानी में गिर रहे हे-छप-छप छप-छपू। हें उठ रही है--दिढती-डुढती, फूलती-फुफुफारती | मल्ला 'चिल्लां उठते है--सम्दालो, सम्दालो, आंधी भाई । पतवार फे पास भव्दुल माफी बैठा है--नुकीली दाढ़ी, सफायठ मूर्दें घुरी चांद । इसे मैं पदचानता इँ । बद दादा फेङ




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :