चिरकुमार - सभा | Chirakumar Sabha

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Chirakumar Sabha by रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravindranath Thakur

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravindranath Thakur के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
चिरकुमार-सभा । द% ४. ५. ^ ^ ^ १ ^~ ^^ ~^ ^~ ~ ^^ ~~~यहा यह कह देना उचित होगा कि अक्षयकुमार उमङ्खगमे आकर गीतके दो चार पद अपने आप बना कर गा सकते थे, पर कभी कोई गीत पूरा नहीं करते थे । उनके मित्र अधीर होकर कहते थ--इतनी असाधारण क्षमता होनेपर भी तुम गीत समाप्त कयो नहीं करते ? अक्षय झट तानमं उसका जवाब देते--क्या समाप्त करनेसे भाई, कभी हुआ कल्याण 1 ते न जलने पायेगा, मे कर दंगा दीपक निवोण ।इस प्रकारके व्यवहारसे सब लोग ऊवकर कहते हैं कि अक्षयसे किसी तरह पेश नहीं पाया जा सकता | पुरबालाने भी खीझकर कहा--उस्तादजी, जरा ठहरिये ! मेरा प्रस्ताव यह है कि दिनमें एक समय ऐसा निश्चित करो कि जब तुम परिहास नहीं करने पाओगे--जिस समय तुम्हारे साथ दो एक कामकी बाते दो सकेगी । अक्षय--गरीबका लड़का हूँ, इस छिये स््रीको अपनी बात कहनेकी आज्ञा देनेका साहस नहीं कर सकता । डर लगता है कि कहीं झट बाज; बंद न मॉग बैठे ! ( फिर गाता है । )) कहीं वह मोग न बैठे मन, इसीसे लेता हूँ मन खींच; कीं रम बेटे ओखोम- सखी लेता हूँ, आँखें मीच । पुरबाछा--अच्छा, तब जाओ | अक्षय---नहीं, नहीं, रूठो मत | अच्छा कहो, क्या कहती हो, सब सूनूगा । टिस्टमें नाम लिखाकर तुम्हारी परिहास-निवारिणी सभाका सदस्य बनूँगा । तुम्हारे सामने कभी किसी किस्मकी बेअदबी नहीं




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :